सौर - परिवार | Sour Pariwar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Sour Pariwar  by गोरख प्रसाद - Gorakh Prasad

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about गोरख प्रसाद - Gorakh Prasad

Add Infomation AboutGorakh Prasad

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१४ सौर-परिवार पू षृ विशार ता «« १९२ । उद्काधों क्षी जातिां „ ७४ तोष ... „६९६ | इष्कान्ही .., ... ७०६ তত্ব ভাবা ফী বীজ ... ९५३ | इककाओं की सेल्या ১০ ७१० नामकरण ......... ६६० , उद्काओं का सार ১. ७१२ केतु-समूह और केतु परिवार... ६९२ | उक्षकाओं की ऊँचाई ১০ ৩২৯ केतु-बन्दी-करण . - ६९५ | उदकाभो की बनावट, इत्यादि ७१८ पुष्डर साराधों की फोरोभराफी ६६६ | उरशा सम्पात-मूक् .. ७२२ पुण्ड विषयक सिद्धान्त ... ६६८ | उषटका-कषी की उत्पत्ति ... ७२४ पुरछ्चल ताराधों की सृह्यु ... ६७२ पुष्छुछ জি ৬ ६७८ श्मध्याय १८ के ध এ ६८० | शवा हम प्रह तक जा सक्ते है { पुष्छुछ ताराधों से मुठभेड़... ६८१ , भ्रद्यात्रा + ... ७३७ ङ्व रेतिह्तिक केतु ... ६८३ हमारा भ्रमिप्राय ... ... ४१८ गॉडड बाण ... ১১ ७२३ अध्याय १७ बाणों के चढाने का सिद्धान्त... ७३१ জা कितनी बारूद चाहिए ७३६ उकैका 5: ~. ६३२ वी बात নন নি साइवेरिया का भीषण रक्कापात ६६४. जियात्रा ++ ... ७३६ ४,०७० . फुट का गड्ढा ... ६६७ अधिक ष्वव त भ इतिहास क . एष्व परिशिष्ट ই উর वैज्ञानिकों का भ्रंघविश्वास,.. ७०२ হাচ্ছকীঘ ... ... ७४२ १००,००० कदे. ,.. ७०४ श्तुक्रमशिका .. ,., ७४ সাজি पृष्ठ ४१८, अंतिम पंक्ति यों होनी चाहिए “हैं; इनसे लौचे यूरेदस भौर नेषच्यून हैं और नीचे बाये कोने में पृथ्वी और बुध हैं!” ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now