योग और आयर्वेद | Yog Aur Aayrved

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Yog Aur Aayrved  by राजकुमार जैन - Rajkumar Jain
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
10 MB
कुल पृष्ठ :
295
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

राजकुमार जैन - Rajkumar Jain के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
२०६, २१०, २११. २१२२१२२१४. २१४. ३१६. २१७. २१८. २१९. २२९. २२१. २२२. २२३. २२५. २२५. २२९. २२७. २२८५. २२९. २३०५. २३१. २३२. ३३३. २२४, १३४, २३६. २३७. २३८.ब्रं पद्मासन হব पद्मासनं स्वस्तिकासन सुखासनमोग मूद्रासन पवन मृक्तासन गोमखासन बजासनसुप्त वज्रासन कुर्मासन शशकासन मत्सयेन्द्रासन अधंमत्स्येन्द्रासन जानुशिरासन बुश्चिकासन ताडासन त्रिकोणासन उत्कटा धन सर्वाङ्गासन हलासनঘহিত্বদীলানাললमत्स्यासन चकासनभुजगासन शलभासन धनुरासन मयुरासननाभि-आसनस या दोलासन ***शवासनत शीर्षासन9०० 998२४१ २४२ २४३ २४४ २४५ २४६ २४७ হজ २४६ २५० २५० २५१ २५२ २५४ २५४ २६५ २१६ २५५ २६० २६२ २६३ २६१ २६६ २६७ २६४८ २६९ २७१ २७२ २७३ २७४




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :