सम्पूर्ण गाँधी वाङ्मय भाग -55 | Sampoorn Gandhi Vagmay Bhag -55

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : सम्पूर्ण गाँधी वाङ्मय भाग -55 - Sampoorn Gandhi Vagmay Bhag -55

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
आभार इस खण्डकी सामग्रीके छिए हम निम्नलिखित सस्थाओ, व्यक्तियों, पुस्तकोके प्रकाशकों तथा पत्र-पत्रिकाओके आभारी हैं संस्थाएँ : सावरमती आश्रम सरक्षक तथा स्मारक न्यास और सग्रहाल्य, नवजीवन टस्ट और गुजरात विद्यापीठ अरन्थाख्य, अहमदावाद, गाधी रमारक निधि व सग्रहाच्य, हरिजन-सेवक सघ, नेहरू स्मारक सग्रहालय व पुस्तकालय, तथा राष्ट्रीय अभिलेखागार, नई दिल्ली । व्यक्तिः श्री एम० वी० एम० रमन, श्री भाऊ पानसे, वर्धा, श्रीमती प्रेमावहन कटक, सामवड, श्रीमती वनमाल्गा देसाई, श्री द० बा० कालेलकर, श्री परणुराम मेहरोत्रा, नई दिल्‍ली, श्री नारणदास गाधी, श्री छगनलालू _जोगी, राजकोट, श्रीमती एफ० मेरी वार, श्रीमती मीरावहन, आम्ट्रिया, श्रीमती प्रेमलीला ठाकरसी, श्रीमती लीछा आसर, श्रीमती तहमीना सम्भाता, श्रीमती मनुबहन मजरूवाछा, श्री सुरेन्द्र मणरूवाला, वम्बई, श्री घनश्यामदास बिडला, श्रीमती जानता देवी, कलकत्ता; श्री आनन्द तो० हिंगोरानी, श्रीमती मेडेलिन रोलां, श्री अमृतका नानावटी, नई दिल्ली, श्रीमती गगावहन वैच, वोचामण, श्री कनुभाई मगस्वाखा, अकोला, श्री रामनारायण एन० पाटक, भावनगर, श्री छगनलार गावी, श्री हमीद कुर्रणी, अहमदाबाद, श्री भगवानजी पुम्पोत्तम पण्ड्या, वदवाण, श्रीमत्ती यारदावहन गौ० चोखावान्, सूरत, श्रीमती सूया गात्री, फीनिक्य, उखन, श्री नारायण देसाई, वारडोली, श्री वा० गो० देसाई, पूना । पस्तकं : “ वायुना पत्रो - ४. मणिवहन पटने” बापुना पत्रो- २ सरदार वल्ल्म- भाई पटेलने ', 'छेटर्स ऑफ श्रीनिवास जास्त्री , (ए बच ऑफ ओरहत्ड लेटरस ', ' वापुकी छायामें मेरें जीवनके सोलह वर्ष „ 'द मैन्यूस्क्रिप्ट ऑफ महादेव देसाईज डायरी, महादेवभाईनी डायरी - ३» “बापूना पत्रो-५ कुमारी प्रेमाबहन कटकने', ˆ वायुना पत्रो ~ ९ : श्री नारणदास गाधीने, ' गाधी . १९१५-४८', ' गोसेवा „ ' इडियन एनूभल रजिस्टर, १९३३ ' वापूनी प्रसादी ', वापूज छ्टसं दु मीरा” “दि ट्राइवल वर्ल्ड ऑफ वेरियर एल्विन , ' पाँचवे पुत्रको वापूके भागीर्वाद ” “ माई डियर चाइत्ड ', तथा “पाचमा पुत्रने वापुना आशीर्वाद । पत्र-पत्रिकाएँ: “ अमृतवाजार पत्रिका”, “टाइम्स ऑफ इडिया', “बॉम्वे करोनिकल *. 'विदव भारती न्यूज”, “हरिजन', “हरिजन-वन्धु ', 'हरिजन-सेवक ', “हिन्दुस्तान टाइम्स ', ट्रिब्यून” और ' हिन्दू 1 अनुसन्वान और सन्दर्भ-सम्बन्धी सुविधाओके लिए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी पुस्तकालय, इंडियन कौसिछ ऑफ वर्ल्ड अफेयर्स पुस्तकालय, सूचना और प्रसारण मन््राल्यका _अनुसन्वान गीर सन्दर्भ विभाग, नई दिल्‍ली तथा श्री प्यारेछाल नैयर, नई दिल्‍ली हमारे घन्यवादके पात्र है। कागज-पत्रोकी फोटो-नकल तैयार करनेमे सहायता देनेके छिए हम सूचना मौर प्रसारण मन्त्रार्य, नई दिल्छीके फोटो-विभागके आभारी हं । पन्द्रह




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now