कृषि विद्या भाग - ३ | Krishi Vidhya Bhag - 3

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Krishi Vidhya Bhag - 3  by गंगा शंकर नागर - Ganga Shankar Nagar

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about गंगा शंकर नागर - Ganga Shankar Nagar

Add Infomation AboutGanga Shankar Nagar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
पशुपालन. (१३) प्र ध्यान देना चाहिये नितनी गोशाला साफ ओर स्वच्छ रहेगी उतने ही पशु भी देखनेमें स्वच्छ ओर मनोहर लगेंगे ओर जब गोशाला वा अस्तवलू साफ रहेगा तो उस स्थानमें की वायु भी न बिगड़ेगी ब्रत्‌ अच्छी रहेगी ओर फिर कोई बीमारी पशुओंको न होगी. _ पशुओं की मावजत के लिये प्रथम बात उन के रहने के लिये তা नाना हे शाखा बनाना धन का कायेहे ओर वह सब छोगों से नहीं हो सक्ता धनिक लोग तो का २ गोशा तथा अस्त्ब्‌ङ बना सृक्ते दै पर गरीब छोग जो गोको पालते हैं उनको अधिक कठिनता पड़ेगी जो उन पर भी शाला बनाने का बोझ पटका जाय क्योंकि वे इतना घन नहीं रखते इन सब कारणों को ध्यान में छाक्र कुछ उपाय पशुओं के रखने के यहां पर लिखते हैं जिसमें गरीब ओर धनिक सबोंकों सुगमता पड़ सकेगी.




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now