धारा बहती रही | Dhara Bahati Rahi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : धारा बहती रही  - Dhara Bahati Rahi

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about भीष्म साहनी - Bhisham Sahni

Add Infomation AboutBhisham Sahni

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
तह मेरी भी जबदस्त इच्छा है दिः आप जिंदा रहू, ययोकि जीवन से बढ़ कर इस दुनिया मे और कोई चीज नहीं है} 'वेवासि है 1 सरामर बकवास | '--युवक ते कहा । “कहा न, विशेष पृरिस्थितियों के वागरण इस समय आम को एसा लग रहा है ।” युत्रतो को आवाज अतिरिक्त नम हो आयी थी । धारा बह रही थी। चादनी के कारण वह बिल्शुल चादी सी लग रही थी 1 उनकी तरणो म गूनगुनाहट सी यजे रही थी और ऐसा लग रहा था जैसे चह गा रही हा । युवक ते पहचानी नजरों से गौर से उसकी और दंखा। उस्ते वद शालू मी ही मोहक ओर प्यारी लग रही थी ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now