बालक भजन संग्रह | Balak Bhajan Sangrah

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : बालक भजन संग्रह - Balak Bhajan Sangrah

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
| (७) ज्ञान चसिकरो, षरो षदा दिलमे जका नाहीं पार मेँ होगा भमनां ॥ जिनक ॥२॥ हों कथिकीं करुणा धारे पालो दया पमे जियो। মাইন জীব समो समाना ।जिनवर ०३। श कमकरो तपकर्‌ जारे, गायो सदो, जिन गृण भला । “बालक” शिवनारीको होय करना जिनव१ ॥ ४१ नं० १५ निनबर छो अरजी । चा ( तरकारी लेलो मानन तो आई ) जिनराजा खामी अरज हमारी सुन নাতি ॥ ঈ ॥ दीनदयाल दयाके सागर, सब जीबन उपकारी | मवताएः से ग्ग रो जग “तारक जस घारी। जी गिन०॥१॥ च॒तुर्गति में अ्गते भूमते,अगणित, दुख हम पाये । तारण तरणु विरद हम युन शरेण तिहारी भये




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now