पुरातन-जैन्वाक्य-सूचि | Puratan-Jainvakya-Suchi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Puratan-Jainvakya-Suchi by दरबारीलाल जैन कोठिया - Darbarilal Jain Kothiya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about दरबारीलाल कोठिया - Darbarilal Kothiya

Add Infomation AboutDarbarilal Kothiya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
बस्थ-संके ल-सूच्ती १५६ জজ কবির নন ----ज््न्ह 7 उहह योर. थोस्लामि { सतुति ) दशअक्त्याविसंप्रह, झोलापुर दग्बस,री. दब्यसहावर्मगणक-टीका माशिकचम्गतस्यमासा, कल्यई वृव्बस.शय.. दव्यसहालग्यचक्त मारिकचन्द्र प्रन्थमाला অঞ্জন হন বতরজারাহ ( ह्रण्बसभ ह ) रायचन्द्र-जेनशास्वबाज्ा, पस्वई दव्बश्ंटी,. दृव्यसंगढ-टीका रायचन्द-जेनशास्त्रमाक्षा, बल्यई दंसखप्ा. वंस्सुपाहुड ( वर्शनप्र/क्षल ) पदपराभूवादिसपद, भा. म््थमाला दंसशपा,टी... बंसखपातुद टीका क + दंसणसा.. दंखणलार (इशंबसार ) जैनप्रन्थ-रत्ताक्र-कार्याद्य, बस्वई धम्मर. धम्मरसायणु(धर्मरसायन, सिद्धान्तसारादिसिप्रह, मा० प्रन्थमाल्ञा, धक्ला. घक्ला-टीका हस्तलिक्षित, जैनसिद्धान्तववन, आरा न्याय. न्यायङुमुदचन्दर मारिकचन्द दि०जैनप्रन्थमाला, वस्थई पब्चछिमलं.. प+ेछमखंध(पश्मिम्स्कन्‍्थ) जयघवलन्तगंत, इस्तक्षिक्षिव, आराध्रति परम.टी. परमप्वयास-टीका रायचन्दजैनशाल्व॒माला, बब्यई রে 9 परमप्पयाआपर खात्मप्काश) रायचन्द्रजनशास्त्रमाद्का, অক্ষ নব. पवयणं तत्तव. परबयणसार-लर्बप्रदीपिकाषुत्ति पत्रयण,ता.वू.. पबयशुसार-सात्पअंजुत्ति प्रथशुसा, पवसशलुसार (प्रदयनसार) प्रभेयक, সমবক্ধনজলা হত पंचगु, भ. पंचगुरुभक्ती (भक्ति) पचस्थि. पंचत्थिपाहुड ( पंचास्तिकाय) पंचत्थि.त.वृ.. पंचत्यिपाहुड-तरवश्र्दपिकाबत्ति पंचत्थि.ता.ब... पंचत्थिपादुड-तात्वयं कि पवस. पंचलंगढ़ ( पंचसंग्रह ) पंचाध्या. पंचाध्यायी पा. दो. पाहू. दो. | ঘা ध्रा. चु. प्रायश्वित्तवूलिका সপ वा. अगु, बारस गुपेकल्ला (द्वादशानुग्रेक्षा) বাতা, बोधपाडुड (सोध पा अत) बाधपा.टी.. योधपाहुड-टीका से. आरा. भगवदी आराह(घ)शथा भावति. भावतिभंगी ( भावत्रिभंगी ) रायचन्दू-जैनशाखमाला , बरव ११ 9१ १ ११ ११ ५१ निर्णयसागर प्रेस, बस्चई दशभक्त्यादिसंप्रह, सोशापुर रायचन्द्र-जैनशाश्रमाला, बम्वई ११ ११ ११ षष्‌ ४१ षच हस्तलि., पं. परमानन्द शास्त्री ,बीरसेवाम्ंविर पं. मच्खनल्ञाल-कृत-भाषा टीका-सहिल अम्बादास अकरे दि० जैन अंथमाला, कार जा प्रायश्वित्तसप्रह, मा० दि. जैनमन्थमाला पटप्राशृतादिसंप्रद, मा० दि. जैनप्रन्थमाला ११ ११ १ षे ष्‌ के ४ | श्रीदेवेन्द्रकीि-वि. जैनमन्थम्ाला, कारंजा भावसंप्रहादि. मा, दि. जैनप्रन्थमाला




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now