गुल्लू गुडिया के नन्हे गगन में | GULLU GUDIYA KE NANHE GAGAN MEIN

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
GULLU GUDIYA KE NANHE GAGAN MEIN by के० के० कृष्ण कुमार - K. K. KRISHNA KUMARपुस्तक समूह - Pustak Samuh

एक विचार :

एक विचार :

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

के० के० कृष्ण कुमार - K. K. KRISHNA KUMAR

के० के० कृष्ण कुमार - K. K. KRISHNA KUMAR के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक समूह - Pustak Samuh

पुस्तक समूह - Pustak Samuh के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
शेरनी - बादल के सिर पर तोहुआ सवार गजब -सा गुस्सा गुस्सा, गुस्सा, गुस्सा ही गुस्साशेरनी -बादल गुस्से में गुराया, गरजा गरज - गरजकर आगे आयाहाथी - बादल सोते - सोते नींद से जागा”फिर क्‍या हुआ, देखो फिर क्या हुआ”शुरू हो गई घोर लड़ाई शेरनी - बादल, हाथी - बादल




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :