कैलेंडर में अंकों का जादू | NUMBER FUN WITH A CALENDAR

Book Image : कैलेंडर में अंकों का जादू - NUMBER FUN WITH A CALENDAR

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

पी० के० श्रीनिवासन - P. K. SHRINIWASAN

No Information available about पी० के० श्रीनिवासन - P. K. SHRINIWASAN

Add Infomation AboutP. K. SHRINIWASAN

पुस्तक समूह - Pustak Samuh

No Information available about पुस्तक समूह - Pustak Samuh

Add Infomation AboutPustak Samuh

मनीष जैन - MANISH JAIN

No Information available about मनीष जैन - MANISH JAIN

Add Infomation AboutMANISH JAIN

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सुशीला : मेरे 4 ५ 4 वर्ग का ऊपर से सबसे बायां अंक 4 है | मैं: वर्ग के अंकों का जोड़ 256 है सुशीला : मैं जांचती हूँ | 18 19 20 21 25 26 शा 28 58 62 66 70 256 रवि : रुको रुको! मैं इस जादू का रहस्य बताता हूँ | सबसे पहले हम वर्ग के 4 से शुरू होती हुए डायगोनल के अंकों का जोड़ निकलते हैं | उसके लिए हमें नीचे के सबसे दायें अंक 28 निकलना पड़ेगा | उसके लिए हम 8 गुणा 3 में 4 जोडेंगे, क्योंकि हमारे इस डायगोनल /धां।॥॥॥1010० 00185»ं01 में हर अंक में 8 का अंतर है और हमें इस ?2100185901 का चौथा अंक चाहिये (8 » 3+ 4 5 28) | अब 4 और 28 को जोड़ते हैं तो 32 आता है, उसे 2 से गुणा करने पर 64 आता है जो 4 से शुरू होती हुई डायगोनल के अंकों का जोड़ है | इसको पुनः 4 से गुणा करने पर 256 आता है जो कि हमारे वर्ग का जोड़ है | यहाँ हमने 4 से उसल्रिये गुणा किया क्‍योंकि ये 4904 वर्ग है जैसे हमने 3:33 वर्ग में डायगोनल जोड़ को 3 से गुणा किया था पिता : बहुत बहुत बढ़िया! मैं बहुत खुश हूँ | 4. क्रॉस पहेली पिता : कैलेन्डर में अंकों कि व्यवस्था हमें कुछ क्रॉस पहेलियाँ बनाने और समझने का तरीका भी बताती हैं | सुशीला : आप हमें ऐसी पहेली दीजिए और हम उसे हल करेंगे | पिता : ये है एक और इसे हम तीसरे आर्डर के क्रॉस पहेली कहेंगे |




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now