कबीर दोहे | KABIR KE DOHE

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
KABIR KE DOHE  by अरविन्द गुप्ता - Arvind Guptaकबीरदास - Kabirdas

एक विचार :

एक विचार :

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

कबीरदास - Kabirdas

कबीरदास - Kabirdas के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक समूह - Pustak Samuh

पुस्तक समूह - Pustak Samuh के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
और दोस्ती कर ली है चोरों के साथ ऊ जब उस दरबार में तुझपर मार पडेगी, तभी तू असलियत को समझ सकेगा | खूब खांड है खीचडी, माहि पडयाँ टुक लूण | पेडा रोटी खाइ करि, गल कटावे कूण | |8| | भावार्थ - क्‍या ही बढिया स्वाद है मेरी इस खिचडी का जरा-सा, बस, नमक डाल लिया है पेडे और चुपडी रोटियाँ खा-खाकर कौन अपना गला कटाये ?38 12 : : भ्रम-बिधोंसवा का अंगजेती देखो आत्मा, तेता सालिगराम | साधू प्रतषि देव हैं, नहीं पाथर सूं काम | |1 | | भावार्थ - जितनी ही आत्माओं को देखता हूँ, उतने ही शालिग्राम दीख रहे हैं |प्रत्यक्ष देव तो मेरे लिए सच्चा साधु है |पाषाण की मूर्ति पूजने से क्याबनेगा मेरा ?जप तप दीसें थोथरा, तीरथ ब्रत बेसास | सूवै सैंबल सेविया, यौ जग चल्या निरास | |2 | | भावार्थ - कोरा जप और तप मुझे थोथा ही दिखायी देता है ,और इसी तरह तीर्थों और व्रतों पर विश्वास करना भी |सुवे ने भ्रम में पडकर सेमर के फूल को देखा, पर उसमें रस न पाकर निराश हो गयावैसी ही गति इस मिथ्या-विश्वासी संसार की है | तीरथ तो सब बेलडी, सब जग मेल्या छाइ | * कबीर' मूल निकंदिया, कौण हलाहल खाइ | |3 | | भावार्थ - तीर्थ तो यह ऐसी अमरबेल है, जो जगत रूपी वृक्ष पर बुरी तरह छा गई है |39 कबीर ने इसकी जड ही काट दी है, यह देखकर कि कौन विष का पान करे 5मन मथुरा दिल द्वारिका, काया कासी जाणि | दसवां द्वारा देहुरा, तामैं जोति पिछाणि | |4 | | भावार्थ - मेरा मन ही मेरी मथुरा है, और दिल ही मेरी द्वारिका है,और यह काया मेरी काशी है |दसवाँ द्वार वह देवालय है, जहाँ आम्म-ज्योति को पहचाना जाता है |[ दसवें द्वार से तात्पर्य है, योग के अनुसार ब्रह्मरन्ध से | ] कबीर' दुनिया देहरै, सीस नवांवण जाइ | हिरदा भीतर हरि बसै, तू ताही सौ ल्‍यो लाइ | | 5| | भावार्थ - कबीर कहते हैं --यह नादान दुनिया, भला देखो तो, मन्दिरों में माथा टेकने




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :