विश्व की कहानी | VISHWA KI KAHANI

Book Image : विश्व की कहानी - VISHWA KI KAHANI

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

एस० पी० खत्री - S. P. Khatri

No Information available about एस० पी० खत्री - S. P. Khatri

Add Infomation AboutS. P. Khatri

पुस्तक समूह - Pustak Samuh

No Information available about पुस्तक समूह - Pustak Samuh

Add Infomation AboutPustak Samuh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
भारत के पुराण कहते हैं, शेष नाग रखवारे। अपने फन पर इसे लिये हैं, वही विश्व यह धारे। पर विज्ञान यही बतलाता, यही सही भी मानो। आकर्षण की शक्ति निराली, भेया ! यह पहचानो | 268 0 2, 222, चुंबक की-सी एक शक्ति से, बंधा विश्व है सारा। वही शक्ति जीवन देती है, इससे जीवन प्यारा। इसी एक सिद्धांत सहारे, विकसित विश्व हमारा। इसी विश्व के हम प्राणी हैं, विश्व हमारा न्‍्यारा। गा) 29




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now