श्री भगवती सूत्रम्-15 | Shri Bhagavati Sutram -15

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Shri Bhagavati Sutram -15 by कन्हैयालाल - Kanhaiyalal

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कन्हैयालाल - Kanhaiyalal

Add Infomation AboutKanhaiyalal

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१३ १४, श् _... देवगति से आकर पश्चेख्चियतियेग्योनिको में / “ ड्योतिष्क देवों में उत्पन्न होनेवाले ४ उन्‍्नीसवां उद्देशा चौइम्द्रिय जीदों के उत्पात आदि का निरूएण २१०७-२१ १ वीसवां उद्देशा कर पश्वेल्धिय तियेग्योनिक जीजों के उश्पत्ति ; आदि का निरूषण २१२-२२९ पश्चेन्द्रियतियेग्योनिकों में उत्पन्न होनेवाले रलप्रभो... | एथिवी के नारकों का उत्पाद आदि का निरूपण '२३०-२४४ तियग्योनिकों में से आकर पश्चेल्द्रियतियेग्यो निषों में 'उत्पन्न होनेवाले जीवों के उत्पाद आदि का निरूषण. २४४-२७९ .. संक्षि प्ल्लेन्द्रिय वियग्योनिकों से पश्चेन्द्रि तियग्योनिकों के उत्पत्ति का निरूपण '._ २७९-२९७ मनुष्यों से आकर पश्चेल्धियतियचों मे उत्पत्ति का निख्ण._ ९९७-३२१ बे िष (... उत्पत्ति का निख्षण. ३१२-३५६ इक्फ्रीसवां उद्देशा ह मनुष्यों के उत्पत्ति का निरूपण ं :. ३४७-ई८० डक आनतादि देवों से आकर मन्नुष्यगति में उत्पत्ति आदि का निरूपण... ३८०-४१२ बाईसबां उद्देशा.._ ' वानथ्यन्तरों की उत्पत्ति आदि का कथन ४१३-४२७ तेईसबां उद्देशा का डर जीवों का निरूपण. ४२८-४५७ चोवीसवां उद्देशा * डी. सौधमंदेवों की उत्पत्ति का निरूपण ४५८-५८५ सनत्कुमार देवों की उत्पत्ति का निरूपण ».. ४८५-५१९




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now