श्री वैराग्य भास्कर | Shree Vairagya Bhaskar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Shree Vairagya Bhaskar by श्री गोपालदास - Shree Gopal Das

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री गोपालदास - Shree Gopal Das

Add Infomation AboutShree Gopal Das

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
यदाक्य भगवतोक्त तत्स्वयमेव दशेति नाम्निरिति.। खं माकाशः इबसनो वायुदवर्ता “वाहमनसोरप्युपासनावे- बम॒क्ते श्रुती तथा।हे।यो, वाच ब्रह्मेत्युपास्ते मनो बैल्लेत्यु- पासत इति विपश्चितस्तत्वेज्ञा इति ॥ ९॥ || «७ जो -छ्ोक श्रीकृष्णचंदजीनें कहाहै अब तिसकों छिखके दखाते है। अग्नि सूर्य चंद्रमा तारे प्थिवी जल आकाश वायु वां मन इत्यादिक देवता भेददश्किरके उपासना करे हूए भेद्‌ दृष्टि वाछे उपासककके पापकों न नहीं करते और किद्गान्‌ महात्मा त्तो एक मुहते सेवा क़रें हुए पुरुषके पापकों नष्ट करे हैं इति ॥ ९ 1 मम पल आशुरुूर॒बाच । रा भेद॑दश्ेयेदा देवा न हरंतीह दुष्कृतम्‌ तदा कि तत्त्वविज्ञस्य त॑स्य पाप न विद्यत बतोक्तम | कमंणव हि संस्किद्धिमास्थिता जनकादय इति | नल देवा उपासिता विक्ञस्याघं हर॑त्विति चेन्न तस्य कर्म




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now