शार्ङग्घरसंहिताग्रंथकी | Sharagdharsahinta

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sharagdharsahinta by गंगाविष्णु श्रीकृष्णदास - Gangavishnu Shreekrishndas

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

गंगाविष्णु श्रीकृष्णदास - Gangavishnu Shreekrishndas के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(६) शधाड़िधरसाहत __़ विपयाः एपछ्टांका:; | विषया३द्वितीयोःध्यायः । (दतके झकुब «... ... «७ जोपव मक्षणके पाच काल का यक शाकुन जा प्रथमकाक. «७ बस हौ+ रै०िंटलिंत.. >« ५ पलीयंफाक .... ., .... ... दुःस्वप्नकां पारहार कक ततयिक्काक.... थक .... २१ अमल्वप्त .... राचतुर्थकाक ..... +>+. +« ५ चह॒र्थोडध्यायः । पंचमकाद .... ९००० «« 35 [दीपन पाचन जीपधी ... द्ब्यमें रसादिकोर्का विशेष अवस्था- सशमन ओपधी सील कंयन हक “» रे गे अनुछोमत जौपधी . ... श्सक्षा रूप अं «“« 93 लिसन जीषधी बे रतोंकी उत्पत्तिकम. .... ««» शेर भेदन भोषधो शकिल युणोंक स्वरूप कर »«» 9 | रदन सीषधो 2 के वॉषका खरूप को «« )) [न जौपवी ।॒ हा विपाकफा स्वरूप सदी बज 4 रह जीषधी सं प्रभावका स्वरूप बम ह>« जड़ ता जा विली ००७ रताबकोंदी उत्कुप्ता .... ५... ५ लेखन श्ोषधी 29 'तादें दोषोका संचय प्रकोप भौर प्राह भोपधी हब ' शमन हि «&««. दे आऔषधी ५५ ऋनुअकि नाम “०... 93 | रसायन शीषधी जपकतुमद करके वातादे दोपोंका संचय दाप भार शम दोपाका भकालमें भी चयादि निमित्त कारण कथन दायुक्ा प्रकोप तथा शमन वित्तकोंप और शमन कफका कोप जौर शमन तृतीपोज्ध्पाय: । डापराक्षा .... दोपोऊके निमतारूपकी चष्ट स्प्यपात्त और द्विदोपकोी छत।ग्यनाएबिक्षण उप्राष्फाका नाडीक्षे छ्क्षण तयप्रकानके ल्श्ण प्रशापा9896७४#:95%48५9%32383...£6-29 ७वार्जीकरण ओऔषधी वाहुब्द्विकारी नोपधी७६९५७६823599 वातुकां चेतन्य करता तथा २ ७ वृ।इ्कारो भाप चा 29%» २८ वर्जॉकरण क्षोपर्थोक्षा विशेष ५ पक्ष जीषिवी 5 व्यवायी शब्रीपधी लड़ विकाशो ज्षीपधी ५५ २९ गिदकारों जोपधी ब्डदर प्राणहारण जीषधी न ० ममाथी जीपबी हक अभिष्यदाक्क्षण जाह < है, पचमोीध्याय: ।३१। कशदिकथतपृष्ठीका, «०१३. हरे च्ण्ब्ट 587 -+ ६४ »०« ३५छ्क्क रू रु8०56 ४भ्् 99७ ३७#०० ड9्र58०८ ०१ ७०९०७ डे ८कक औ 4595००० 99 ब्न्न्३े5 9०० १5% ००८ 525 च्०ण ठ0 ००० 95846 ज8०्च्ब् टी ९छ ह हडब्हछ्द 5 ड्8८०१७ 5 है«०० ४२न 99 98695 9$ 6 6 98 ००० 9 6२१ |)80608 79 5




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :