युद्ध उत्तरार्द्ध | Shri Madwalmiki Ramayan Yudh Uttrardh Viii

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Shri Madwalmiki Ramayan Yudh Uttrardh Viii by चतुर्वेदी द्वारकाप्रसाद शर्मा - Chaturvedi Dwarkaprasad Sharma

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

चतुर्वेदी द्वारकाप्रसाद शर्मा - Chaturvedi Dwarkaprasad Sharma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(२) , का न्रस्त होना | लक्ष्मण जी और अतिकाय का यद्ध।लद््मण जी की मार से अतिकाय के कठे हुए सिर का भूमि पर गिरना |चहत्तरवा सग ७9३---9७७ अतिकाय का मारा जाना सुन, रावण का उद्दिप्न होना | लड्ढा को रक्षा के लिए विशेष प्रबन्ध करने की रावण द्वारा आज्ञा ।तिहत्तरवाँ सगे ७७८--७६७ पुत्रों ओर भाइयों के, युद्ध में मारे जाने पर, शोक- विहल- रावण को, अपने पराक्रम का बखान कर,इन्द्रजीत का धीरज बँधाना सेना सहित इन्द्रजीत का.“ युद्ध के लिये निकलना। राक्षसों और वानरों का घोर युद्ध । समस्त वानरयूथपतियों को इन्द्रजीत द्वारा घायत्न देख और लक्ष्मण सहित अपने ऊपर उसको बाणवृषिट करते देख, श्रीरामचन्द्र जी की लक्ष्मण जी से बातचीत ।इन्द्रजीव का लड्ढा में: प्रवेश |चौहत्तरवाँ सगे ७६७--८ १६ विभीषण द्वारा बानरों को सान्त्वना-प्रदान। हाथ में मशाल ले हलुमान और विभीषंण का रणत्तेत्र में घूम घूम कर जीवित वानरों को आश्वासन-प्रदान | घायत्न जाम्ब- वान से विभीषण की भेंट | जाम्ववान का विभोषण से हनुमान जी का कुशल्-प्रश्न | इस प्रश्न से विभीषण का विस्मित होना और जाम्बवान द्वारा विभीषण का समा- धान किआ जाना | ओषधि-पवत लाने के लिए जाम्बवान क्रा हनुमान जी को आदेश | हनुमान जी का गन और




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :