श्री चतुर्विशति जिनस्तुति व श्री शान्तिसागर चरित्र | Shri Chaturvishati Jinstuti Shri Shantisagar Charitra

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : श्री चतुर्विशति जिनस्तुति व श्री शान्तिसागर चरित्र  - Shri Chaturvishati Jinstuti Shri Shantisagar Charitra

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about लालारामजी शास्त्री - Lalaramji Shastri

Add Infomation AboutLalaramji Shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
श्रीअजितनाथस्तुति । ९ लिये जो जीव इस धर्मको अपने हृदयमें धारण करलेते हैं वे मोक्षके सुखोंको अवश्य प्राप्त कर लेते हैं । भव्यात्मनां नाथ तवेब मूर्तिः प्रतिक्षणं पृण्यनिवंधिनी च । स्वगंप्रदात्री पनपान्यदात्री पापस्य हंच्री नरकागेला च ॥श॥। अथ- हे नाथ ! आपकी मूर्ती भव्य जीबोंको प्रतिक्षण पुण्य उत्पन्न करनेवाली है, सगे देनेवाली है, धन धान्य देने- वाली है, पापोंकों नाश करनेत्राली है ओर नरककों रोकनेके लिये अग्रल था बेंडाके समान हैं । ते बह्मवेत्ता सममित्रशत्रुः ध्यानाभिकर्मेन्धननाशकारी । त्वमेव मोक्षर्य सुखस्य दाता मयापि वंद्यो सततं प्रपृज्यः ॥७॥ अथे-- हे भगवन्‌ ! आप परम ब्रक्मके जाननेवाले हैं, शत्रुमित्र सबकी समान समझनेव्राले हैं, ध्यानरूपी अग्निसे कर्म- रूपी इंधनको जलानेवाले हैं ओर आप ही मोध्सुखके देने- वाले हैं इसीलिये हे नाथ, में मी आपकी सदा वंदना ढरता हूँ ओर सदा आपकी पूजा करता हूं ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now