सूक्तिसागर | Sukti Sagar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Sukti Sager by रमाशंकर - Ramashanker

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रमाशंकर - Ramashanker

Add Infomation AboutRamashanker

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
बदला चल बलवात्‌ वलिदान बहादुर (दे० वीर) वहादुरी बहुमत वातचीत वाबा (दे० विघ्त) चालक बालबिववा विगडी वात विन्दी वीमारी (दे० रोग) वुजदिली (दे० कायरता) चुढापा बुढापा-जवानी चुद्धि (दे० ज्ञान, प्रज्ञा, विवेक) बुद्धिमान्‌ बृद्धिमत्ता बुराई वेईमानी ववकूफ (दे० मूर्ख) वर (दे० झण्मुता) ब्रह्म (दे० ईश्वर, परमेश्वर) ब्रह्मचय॑ ब्रह्मचारी ब्रह्मत्ान ब्राह्मण भवत - २९ - व्<्‌ 1 । व्<्‌ 0 1 न्प्छ ए. ४ ०५ ५त भक्ति भजन भय (दे० डर) मलाई भवितव्यता (दे० होनहार) भविष्य भाग्य (दे० तकदीर) भाग्यरेखा भाग्यवान्‌ भारतवप्पं भारतीय सस्कृति भार्या (दे० स्त्री, सुभार्या) भाव भावी भावना भाषण (दे० तकरीर, व्यास्यान ) भाषा मिक्षा (दें० माँगना) भिखारी भीरुता (दे० कायरता, वुजदिली ) भूख भूल (दे० गलती, जुटि) भूषण (दे० गहना ) भेद भोगलिप्सा भोजन अ्रमण (दे० देशाटन ) म मंत्र मदिर मजह॒व॒ (दे० घ्म) ३५० ३५१ ड५१ ब्ण्र इ्फ्४ड ३५६ ड््ष्दं इ्५६ शा आए €ए ९एए ० २ए ,9 9 शा ९७0 . गे औतिी ६श ६? #&0 >७८ «८ ७० >>) >) >> >> 0 ७ 6 6 «9 ६? .,60 श्षां श्ण 4 री 6 <&? &ी & 0 छू १७ नर बा. श१ए रन २७. ९७ 4 60 4. <0. 40 शएछ प्त




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now