उत्तरपुराण | Uttar Puran

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Uttara Purana Of Acharya Gunabhadra by पंडित पन्नलाल जैन - Pandit Pannalal Jain

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about पं पन्नालाल जैन साहित्याचार्य - Pt. Pannalal Jain Sahityachary

Add Infomation AboutPt. Pannalal Jain Sahityachary

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
अष्टचत्वारिंशत्तम पव अजितताथचररित सगर चक्रवर्तोी एकोनपत्चाशत्तम पवे सम्भवनाथ चरित पद्चाशत्तम पर्व अभिनंदनताथ चरित एकपन्नागत्तम पवे सुमनिताथर्चारत द्विपब्लाशत्तम पे पद्मप्रभ चरित त्रिपन्लाशत्तम पर सुवारवेनाथ चरित चतुःपत्चाशत्तम पव चन्द्रप्रम चरित पद्चपद्चाशत्तम पे पुष्पदल्त चरित पटपश्चाशत्तम पे शीतलनाथ चरित सप्पत्नाशत्तम पे श्रेयान्सनाथ चरित विजय बलभद्र, त्रिपृष्ठ नारायण और अश्वग्रोव प्रतिनारायणका चरित अष्टपग्नाशत्तम पष वासुपृज्य चरित द्विपृष्ठना रायण, अचल बलभद्र धौर तारक प्रतिनारायणका चरित एकोनपषष्टितम पर्व विमलनाथ चरित धर्म बलभद्र, स्वयंभू नारायण थौर मधु प्रतिनारायणका चरित संजयन्त, मेरु शौर मन्दर गणधरका चरित पष्टितम पे अनन्तनाथ चरित सुप्रभ बलभद्र, पुरुषोत्तम नारायण धौर मधुसुदन प्रतिनारायणका चरित विषय-सूची | एकपष्टितम पवे १ | धर्मनाथ चरित १२८ ६ ' मघवा चक्रवर्शीका चरित १३४ , समत्कुमार चक्रतर्तीका चरित १३५ १४ ' द्विषष्टितम पर्व | अपराजित बलभद्र तथा अनन्तनीर्य नारायणके कर ।... धभ्युदयज्ञ वर्णन १३८ त्रिपप्टितम पर्ब २५ शांतिनाथ तीर्थंकर और चक्रवर्तीका चरित १७५ चतुःपष्टितम पे ३३ | उन्युनाथ तीर्थंकर बोर चक्रवर्तीका चरिह्ठ. २१३ पद्नषष्टितम पे ३८ | अरहनाथ चरित २१८ सुभोम चक्रतर्तीका चरित २२४ ७४ | नन्दिषेण बलभद्र, पृण्डरीक नारायण और निशुम्भ प्रतिनारायणका चरित २३० ६६ पट्पष्टितम प्र मल्लिनाथ चरित २३३ ७१ । पद्म चक्रवर्तीका चरित २३८ नन्दिमित्र बलभद्र, दत्त नारायण और बलीनद ७९ प्रतिनारायणका चरित २४१ सप्तपष्टितम पर्व ८४ | मुनिसुत्रत चरित २४४ हरिषेश चक्रवर्तीका चरित २४८ ८७ राम बलभद्र, लक्ष्मण नारायण और रावण प्रतिनारायथणका चरित, तदन्‍्तगंत राजा 5६ सगर, सुरूसा, मधुपिज्जल, राजा वसु, क्षीरकदम्बक, पर्वत, वारद श्आंदिका 5७ वर्णन २५७० नह अष्टपष्टि पर्व १०५ | राम, लक्ष्मण, रावण कौर अणुमान्‌ (हनुमान) का चरित २७८ १२१ एकोनसप्रतितम पे नमिनाथ चरित ३३१ १२४ | जयसेन चकवर्ती ३३७




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now