श्री चन्द्रराजचरित्र | Shree Chandrarajcharitra

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Shree Chandrarajcharitra by श्रीबुद्धिजी - Shreebuddhi Ji
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
12 MB
कुल पृष्ठ :
465
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्रीबुद्धिजी - Shreebuddhi Ji के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
४छूये उदयाचल से ऊपर उठता हुआ आकाश. के मध्य-प्रदेश में जा पहुंचा था | कड़ी भ्रूप से तपी हुई जमीन लोगों के गमनागमन में बाधा पेदा करती थी । लोगों के शरीर से पसीना निकल कर गभे हवा के फोंकी को ठंडा कर देता था । ऐसे मध्याह में महाराजा प्रतापसिंह दीपशिखा के देवोषम वेभव संपन्न सुसराल में आनन्द-मीज कर रहे थे। खस की टट्टियां लगी हई थी गुलाब जल छिड़का जा रहा था । घुलाव के इत्र की महक द्र २ तक के पदार्थों को सुवासित कर रही थी । महाराजा अपने आराम गृह में आराम कर रहे थे ।इस प्रसड़ में राजा दीपचन्द्र देव अपनी भतीजी चन्द्रवत्ती के पति राजा शुभगांग के भेजे हुए दूत की लेकर




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :