राजस्थान पुरातन ग्रन्थमाला | Rajasthan Puratan Granthmala

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Rajasthan Puratan Granthmala by आचार्य जिनविजय मुनि - Achary Jinvijay Muni
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
12 MB
कुल पृष्ठ :
208
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

आचार्य जिनविजय मुनि - Achary Jinvijay Muni के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
( १६ )पुस्तक में यद्यपि उपलब्ध प्रतियों के आधार पर शुद्ध पाठ ग्रहण किये गये हें तथापि इस की मन्त्रशात्लीयता पर ध्यान रखते हुए अधिक साहस से काम नहीं लिया गया है। इस पुरुतक का सस्यादन काये मुझे सुनि श्रीज्िगविज्यजी महाराज ने सोंपा कै और समय समय पर आवश्यक निदरशन भी किये हैं | पुस्तक का यह खरूप उच्हों की कृपा से वत सका है' अत एवं उन के प्रति हादिक ऊतछसात्र ज्ञापित करता हूँ। परिद्त भी गंगाधरजी द्विवेदी और श्री लाघ्यूरामजी दूधोड़िया ने अ्रपन्ती हस्तलिखित प्रतियां देकर मुझे उपकृत किया दे, एतदर्थ उन का आमार मानता हूं। सन्दर्ससंकलन, प्रेसकापीलेखशन एवं प्रागरूप संशोधन में मेरे खुष्दद श्रीमल्नच्मीनारायणज्ञी गोखामी और श्रीमद्न शर्मा “खुधाकर” ने ययेष्ट सहयोग दिया है तदर्थ इन दोनों बन्घुओं को अकत्विम धन्यवाद अपित करता हूं।आशा है, यह पुस्तक अद्ालुओं णवं साहित्यान्वेषणरसिकों' के कुछ काम आएगी ।ऋषिपश्सी, २०१७ वि» प्रशविपशयणु---राजस्थान प्राच्यविद्या प्रतिष्ठान, ह गोपालनारायश ओघपुर । *




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :