नीहार | Neehar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : नीहार  - Neehar

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about महादेवी वर्मा - Mahadevi Verma

Add Infomation AboutMahadevi Verma

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
नौहार सन्देह बहती जिस नक्षत्नलोक में » निद्रा के शवासों से बात, रजतरश्सियों के तारों पर बेघुध सी गाती थी रात्र 1 अलसाती थीं लहरें पी कर मधुसिश्रित तारों की ओस, भरती थीं सपने गिन गिन कर मूक व्यथाएँ अपने कोप। दूर उन्हीं नीलमकूलों पर पीड़ा का ले भीना तार, उच्छूवासों की गूँथी माला मैंने प्रायी थी उपहार। यह. विस्मृति है या सपना वह या जीवन-विनिमय की मूल ! काले क्यों पड़ते जाते हैं गाला के सोने से फूल! १६२६ जनवरी




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now