भारत में गये भाग 1 | Harat Main Gay Bhag 1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Harat Main Gay Bhag 1  by सतीश चंद्र - Satish Chandra

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

सतीश चंद्र - Satish Chandra के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
अध्याय 3१३ ठठरी या कड्लाल टट९ खोपड़ीकी अध्ियाँ चित्र ६६ घोड़ेकी खापड़ीका मध्यमाय | 4. वृददत्‌ मस्तिष्कका कोठा 6. जतूका चरण 7. सोरिका 8 नासास्थि .3 . जतूकास्थि चित्र ६७. घोड़ेकी खोपड़ी (पिछला दृद्य)। 1 पश्चिम कपाल 9. दाखाह्थि 18 सीरिका 20 तालवीय 29 गढाह्यि 23. ऊच्चे इन्वस्थि 25 छांखास्यि और हन्वस्थिकी सन्धि 26 पुरो इचु 29. कर्तनक अस्थि । 1 सर्करास्थि 2 पुरः कपाल. 5. पश्चिम कपाल 9. लघु मस्तिष्कका कोठा । द श पे - के नि दि पक _सन्ड थे थे मर ् दे नि स््य्ि थ री पु । ब न ५ ही दल श. | | कर १ 1] | श् हु ५3 ध ही चित्र ६८. बैलकी खोपड़ी (पीछे और बगलका इदय) |. 1 पुर कपाठ 2 सींगका जड़ 4 दाखास्थि 5. अन्न पीठास्थि 7 गढाछ्थि 8. नासास्थि 9. ऊष्ब हन्वस्थ 11. पुरो कु 12 कतंनक अस्थि ।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :