विद्वज्जनबोधक १ | Vidwajjanabodhak Volume - I

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : विद्वज्जनबोधक १ - Vidwajjanabodhak Volume - I

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about पं पन्नालाल जैन साहित्याचार्य - Pt. Pannalal Jain Sahityachary

Add Infomation AboutPt. Pannalal Jain Sahityachary

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
ख* १० पन्नाठालजी संघी दणीवाले। अं 5च2८८2&5..2...2........+ 5 जयपुर बगत्से दक्षिपत्नी और ठगनय २० कोसपर लियाई नामछा एक इत्च है, जो ठहृशीदक्ा उदर मुकाम हं। वहोंकी इमारतों ओर मन्दिरोंके देस- नेसे मादम होता हद कि, वह किती समय एक दा मारो नगर था आर जनधर्मक्े उच्च गौरवद्दो अक्ट करता था। हमारे चत्तिनावक्न संबा पन्चालालजीके पितानद 5ंदी शिवजीयम इसी नयरनें रहते थे। अपनी जन्ममृमिे सबको प्यार होदी ६, दक्ष काए प्रम्नन्नताद नहीं छोटना चआाइता 1 शिवक्ोरामर्जी विदाईको क्यों छोड़ते ; परन्तु साग्यके चदरमें पढछर सनुष्य सब कुछ करनेक्े डिये छाचार होता है। उंदीजीओो अपना य्राम् छोड़कर कपने कुक मदित उदयपुर ( मेवाड़ ) में लाकर रहना पढ़ा । यहाँ छाभान्वराव ऋमेंक्े क्षयोप- शम्रते उन्हें व्यापारनें अच्छी प्राप्ति होने ठगी और थोड़े ही दिनोंनें वे एक नामी धनवान हो यये भारक्मय छिदारा चमद उठा । दिलों जद्पुरद्धे रादड्ोय गरम एच्र एृहहऋलठहआ काठो घता या। महाराज वाई जयसिदजीन अपने एक पुत्र ईवरीसिंहद्े होते हुए नी द्दबपुरनरेदरझ् पुद्रीके साथ इस पठिटाने उृद होकर विवाह कर लिया के, सीसोदणी नहारायरोक्ने ग्रे जो पुत्र होगा, वही जबपुरके राज्यदा उीतोदरमीके छुमार माधवर्सिद व्क्त्र हुए और उन्होंने बब॒आप्त होनेपर गईके हच्का दादा क्िया। परंतु ईंदरंसिंह स्पेष् पुत्र बे, इंडलिये उन्हें ही राज्यञ्य कार्य सोंगा गया। माववर्पिंदरी रुध होकर व्द्यपुर चढ़े गये और वहाँसे लड्ाईका सामाद एचन्र करके जबपुरपर उद्ाई कर दी। इस रत्न 81 8 5ठछुर रे भा जहसी कार्य नहीं करते ये। अतः अर चाहबक्षे साय इंद समद का मी बवपुरमें आापदन हुआ था । [[ संघीजी न्ज्




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now