अष्टांग संग्रह | Ashtang Sangrah

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : अष्टांग संग्रह  - Ashtang Sangrah

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कविराज अत्रिदेव जी गुप्त - Kaviraj Atridev JI Gupt

Add Infomation AboutKaviraj Atridev JI Gupt

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
५८... -३८६८- 275 “खरूखि८श अल, “पद 5 »/ दर 5 थ ल07770/ > कक ना ज्ल- 0 2 टीजर, डा यविक- च्ध््च्श्ड ०: बक- ५५ कक ही, कर्म आमने. + कमा | न्‍्मनायुए-झप्य न नकुयव्टाओ,- जन ७, गुधिजा ५ प्आ. का इुमममाद.कातथ 3, ९. .(०-यूहुडणमन झंम्पगत कट नभ»-»«+-+++- रन ध््य्ख्ड्ल्थ्ल््ड्र नाक 57202 60-05 7 87 ४72 कऔयघयत- 20-2५ 222९5 2७8७७ ० + ७० छा) ५ जज गा | ही ] <># अपेण छ> 0 है| हू | ॥ | माननीय श्री. यादवजी त्रिकमजी आचाय, बम्बई, |] माननीय श्री. डॉक्टर प्राणजीवनजी महेता, जामनंगर, न्‍ माननीय श्री, गोपालजी'इुंवेरजी 'ठकर, वम्बई, तीया श्रीमती खामिनी निर्णयसागर प्रेस, बम्बई, कक, ८३ + | ृृल्मनइन्य /्डटडछअञल हि न लि अ्मााका 4६ छा कमल जिसप्रकार नानाद्रग्योंके संयोगसे घर या रथका निर्माण होता है, उसीप्रकार आपके अनुगअह ओर सहयोगसे यह कार्य हुआ है। यह जैसीभी वस्तु है, उसेही श्रद्धाके साथ आपकी सेवामें अर्पित करता है । कविके वचनोंके रूपमें इसे स्वीकार करके अनुगृहीत करे। गुणदोषो बुधों गृहलिन्द॒क्ष्वेडाविवेश्वरः । शिरसा ाघते पूर्व परं कण्ठे नियच्छति ॥ शः हल विन 1 +. आं . आक- 'सैलजदीकमाओ, 4 पअणमाककट ५2५ ४3575 आयेओ-. जी. 1 कत कक ॥ आछ- । + 3 >००मन्‍जन्‍न्‍+ नाम+नमामम मामी... 62... ी३४- मम» --मकनकर++-+०--म का जबनल ट्रस्ट हे 55०1 डा! अन्निदेव ग॒प्त, ६४ भें इ२>+५००० जमे हैनकाक ह०म*का्ानाइनकानर: हनन 2-९ शक्कर की व ? यथा कूटगार नानाद्रव्यसमुदायाधथा वा रथों नानारथानज्ञसघुदायात्‌ । [ अभिनिर्वतते ] ---- चरक 1 शै ५. “प्राण, | ४ ऑल ५ पक अधक मी '$ आम आए जी ३ नाव पाक के ३ पाए पी दि आक अंक का २० या या. पक पूछ ( [ ( [ । [ | |! / ! की कक. भा ७ + जाके भा $ %.




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now