भाभी | Bhabhi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Bhabhi  by अज्ञात - Unknown

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

अज्ञात - Unknown के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
भाभी उनेकी जीभ ता में लग जाती है । बड़े भया सचमुच ही बड़े भाग्यशाली हैं जिन्हें ऐसे आाज्ञाकारी और ्नुचर साई मिले हैं । कभी कभी मौज में झाकर .वे कह भी देते हैँ--जब तक दो-दो बछेढ़े मौजूद हैं मु क्या परवाह है ? झाभी उस दिन ाप चूल्दे के सामने बेंठे भोजन करते- करते कह उठे थे--मुमे एक ही दुख है । उस समय बड़ी भाभी जो रायता परोस रहीं थीं. और मैं जो रोटी बना रही थी दोनों ही उनके मुंद से झगली बात सुनने को उत्कंठित हो उठीं । तब. ्याप बोले. थे-- यही कि पिताजी दुख तो मेरे दिस्से का भी भोग गये और सुख अपने हिस्से का भी सेरे लिए रख गये । उनकी इस बात पर मैं तो ठह्टाका सार कर हँस पडी पर भाभी ने कुछ बुराआसा माना था । दे उसी समय बोल उर्ठी--तो कुछ मेदनत-मजूरी क्यों नहीं करते ? पड़े-पड़े खाने. को श्रानन्दू समकते हो पर यदद. नहीं - जानते कि पराधीनता का खाना भी कोई खाना है .। दूसरे की कृपा. का सोहनभोंग थी मुझे तो कभी. नहीं रुचा पर क्या कर॑ सब कछ सदना दी पढ़ता है 1 तुम इसे भले दी सुखभाग नाम दा | -... इस प्रकार छाप्रिय रूप प्राप्त होजाने पर उन्होंने अपने स्वाभाविक वढ़प्पन से केवल मौन रदकर उस संवाद को 2 पेज




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :