रसज्ञ - रंजन | Rasagya - Ranjan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Rasagya - Ranjan by महावीर प्रसाद द्विवेदी - Mahavir Prasad Dwivedi
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 5.01 MB
कुल पृष्ठ : 130
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

महावीर प्रसाद द्विवेदी - Mahavir Prasad Dwivedi

महावीर प्रसाद द्विवेदी - Mahavir Prasad Dwivedi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
ई--कथि-कसव्य श्श काव्य सर्वसाधारण की सममक के बाहर होता है वदद बहुत कम लोकमान्य होता है । कवियों को इसका सदैव ध्यान रखना वादिए। कविता लिखने में व्याकरण के नियमों की अवहेलना न करनी चाहिए । शुद्ध भाषा का जितना मान द्ोता है झशुद्ध का उतना नहीं होता । व्याकरण का विचार न करना कवि की तद्विषयक अज्ञानता का सूचक है । कोई-कोई कवि व्याकरण के नियमों की ोर दृक्पात तक नहीं करते । यह. बड़े खेद औौर लडज्जा की बात हे । न्रजभाषा की कविता में कविजन मनमानी निरंकुशता दिखलाते हैं । यह उचित नहीं । जद्दां तक सम्भव हो शब्दों के मूल-रूप न विगाड़ना चाह्ठिये । मुद्दाविरे का भी विचार रखना चाहिए । बे-मुह्दाविरा-भांषा अच्छी नंददीं लगती । क्रोध क्षमा कीजिए इत्यादि वाक्य कान को अतिशय पीड़ा पहुँचाते हैं। सुद्दाविश दी भाषा का प्रास है उसे जिसने नहीं जाना उसने कुछ नहीं जाना । उसकी भाषा -कदापि आदरणीय नहीं हो सकती । विषय के अनुकूल शब्द-स्थापना करनी चाहिए । कविता एक श्रपूव रसायन है । उसके रस की सिद्धि के लिए बड़ी साव- धानी घड़ी मनोयोधिता शरीर बड़ी चठुराई ्ावश्यक होती है । रसायन सिद्ध करने मे आँच के न्यूनाधिक होने से जेसे रस बिगड़ जाता है वैसे द्वी यथोचित शब्दों का उपयोग न करने से काव्य रूपी रस भी बिगड़ जाता है। कि नी-कि सी स्थल्ल-विशेष पर रूचा- चार वाले शब्द अच्छे लगते हैं परन्तु श्रौर सर्वत्र ललित मर मधुर शब्दों ही का प्रयोग करना उचित है । शब्द चुनने में अ्रक्तर मैत्री का विशेष विचार रखना चाहिए । अच्छे झ्थ का य्योतक न होकर भी कोई-कोई पद्य केवल अपनी मधघुरता ही से पढ़ने वालों के झन्तःकररण को द्रवीभूत कर देता है । टुटत अढ्डट बे3े तर जाई जत्यादि वाक्य लिखना हिन्दी की कविता क्रो कलड्रित करना है ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :