प्रवेशिका हिंदी रचना | Praveshika Hindi Rachna

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : प्रवेशिका हिंदी रचना  - Praveshika Hindi Rachna

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कन्हैया सिंह - Kanhaiya Singh

Add Infomation AboutKanhaiya Singh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
निवबन्ध रचना । सललललललललउररशमाशगााकणणतागाागाणाणकणणणणणणालकणगााणववणानामररनलकलनलटकमापाठानटणलणणालामकिनन सामाजिक । स्वाभाविक या श्रम्यासलम्य । कारण । प्रकार । संचय। तुलना । दोष गुण । फल । हानि लाभ । दृष्टानन प्रमाण । उपसहार । नोट-ऊपर के विषयविभाग साधारणत पथप्रदर्शन केलिये हैं परन्तु सभी विचारात्मक लेखों में भलीभाति नहीं लगते | श्रम्यास से स्वय इस बात की सूक होती जायगी । इस पुस्तक में जितने लेख दिये गये हैं इन पर दृष्टि डालने से इसका पता झापदी झाप लगजायगा । लेख सिखानेवाले शिक्षकों से हमारी राय-- शिक्षकों को उचित है कि वे विद्यार्थियों को हताश न कर घोरेघीरे साहस बढ़ाते इुप झभ्यास कराव । पदले वर्णनात्मक तब विवरणात्पक श्लौर सबसे अंतप्रे विचारात्म ऋ लेख लिखावे । विषय दो एक दिन पदलेदो निश्धत करदें । विषय पर विद्यार्थियों से भलीभांति बातचीत कर । आरम्भ दी से उत्तर पूर्ण वाकष्यों में लियाकर । बातचीत द्वारा बाठकों दी से विषय विभाग निश्चित करावे | जब लड़के पूर्णरीति से समभजाये तब लेख लिखलाने को कहें । लेखकों शुद्ध कर अपना मन्तब्य मीठे मीठे शब्दों में प्रकाश कर दिया कर । यदि यद्द राय मानीं गई तो देखेंगे कि उनके घिद्यार्थी कुछ ही समय में अच्छे ठेख लिखने लगजायेंगे ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now