अमृत प्रीतम - चुने हुए कहानियां - चुने हुए निबंध | Amrita Pritam - Chunee Hue Kahaniyan Chune Hue Nibandha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Amrita Pritam - Chunee Hue Kahaniyan  Chune Hue Nibandha by अमृता प्रीतम - Amrita Pritam
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 21.85 MB
कुल पृष्ठ : 370
श्रेणी :
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

अमृता प्रीतम - Amrita Pritam

अमृता प्रीतम - Amrita Pritam के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
कैसे पूजती है पाँव ? लड़की का बाप जाता है फूलों की एक थाली ले जाता है साथ में रुपये भर लड़के के आगे रख देता है । यह तो एक तरह से बाप ने पाँव पुज लिये । लड़की ने कसे पूजे ? लड़की की तरफ़ से तो युजे । पर लड़की ने तो उसे देखा भी नहीं ? लड़कियाँ नदी देखती । लड़कियाँ अपने होनेवाले खाविन्द को नहीं देखतीं ? धर कोई भी लड़की नही देखती ? ना।. पहले तो अंग्री ने ना कर दी पर फिर कुछ सोच-सोचकर कहने लगी जो लड़कियाँ प्रेम करती है वे देखती हे । तुम्हारे गाँव मे लड़कियाँ प्रेम करती है ? कोई-कोई । जो प्रेम करती है उन को पाप नहीं लगता ? मुे असल में अंगूरी की वह बात स्मरण हो आयी थी कि औरत को पढ़ने से पाप लगता है। इसलिए मैं ने सोचा कि उस हिसाब से प्रेम करने से भी पाप लगता होगा । पाप लगता है बड़ा पाप लगता है। अंगूरी ने जल्दी से कहा । अगर पाप लगता है तो फिर वे क्यों प्रेम करती हैं ? जे तो बात यह होती है कि कीई आदमी जब किसी छोकरी को कुछ खिला देता है तो वह उस से प्रेम करने लग जाती है। कोई क्या खिला देता है उस को ? एक जंगली बूटी होती है । बस वही पान में डालकर या मिठाई में डालकर खिला देता है । छोकरी उसे प्रेम करने लग जाती है। फिर उसे वही अच्छा लगता है दुनिया का ओर कुछ भी अच्छा नहीं लगता । सच ? मैं जानती हूँ मैं ने अपनी आँखों से देखा है । किसे देखा था ? मेरी एक सखी थी । इत्ती बड़ी थी मेरे से । फिर ? फिर क्या ? वह तो पागल हो गयी उस के पीछे । सहर चली गयी उस के साथ । यह तुम्हें कैसे मालूम है कि तेरी सखी को उस ने बूटी खिलायी थी ? 6 | अमृता प्रीत म चुनी हुई कहानियाँ




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :