जीव - जगत की कहानिया | Jeev Jagat Ki Kahaniya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : जीव - जगत की कहानिया  - Jeev Jagat Ki Kahaniya

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

नरेश वेदी - Naresh Vedi

No Information available about नरेश वेदी - Naresh Vedi

Add Infomation AboutNaresh Vedi

प्रो.पं. मन्तेय फ़ेल - Prof. Pt. Mantey Fel

No Information available about प्रो.पं. मन्तेय फ़ेल - Prof. Pt. Mantey Fel

Add Infomation About.. Prof. Pt. Mantey Fel

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
इससे यह वात मेरी समझ में श्रा गई कि मछली की घात में कौड़ित्ली हमेशा एक ही टहनी पर वयों वैठती हैं। जी हां मुझे तो ये नीले परिंदे ही पसंद हैं बूढ़े ने फिर कहा। ये. ईमानदार. जानवर हैं न कि इन धारियोंवाली गिलहरियों की तरह चोर। ये गिलहरियां भी हमेशा खाने लायक किसी-न-किसी चीज़ को चुराने श्रौर उसे ज़मीन में श्रपने विलों में छुपाने की घात में ही रहती हैं। सुनिये किस तरह ये त्ुम-तुम कर रही हैें। जानते हैं ये क्यों इस तरह शोर कर रही है? सुखी रोटी के इस थैले को देखिये जरा जिसे मेने उस टहनी पर लटका रखा है। एक-दो दिन पहले की वात है मेने थैले को तंवू में ही रहने दिया गिलहरियों ने उसे ढूंढ लिया श्रौर अ्रपने दांतों से उसमें छेद कर दिया। उन्होंने पंजों से श्रपने मुंहों में रोटी का चूरा टूंस लिया श्रौर गाल फुलाये लगीं झपने विलों की तरफ़ दौड़ने । श्ररे साहब थैला ऊपर तक भरा हुमा था श्रौर जब में लौटकर श्राया तो वह इतना खाली हो चुका था कि हिलने से रोटी की खड़खड़ाहट सुनी जा सकती थी। इन धारियोंवाली उचकिक्यों ने लूट लिया था मुझे श्रभी भी मेरे थले के नीचे कम-से-कम तीस गिलहरियां होंगी । वें उस तक पहुंच नहीं सकती मगर उनके मुंहों में लार ज़रूर श्रा रही होगी। बूढ़े. मात्वेई मिनट-दो-मिनट खामोश बैठे. गिलहरियों के लुम-न्ुम शोर को सुनते रहे श्रौर फिर बोले उनमें से कई गिलहरियां पहले काफ़ी देर थेलें के नीचे ही उछलती रहीं श्रौीर फिर यह कहिये कि खाली मुंह ही भाग गईं श्रौर इसीलिए पशु




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now