असानस भाग - १ | Asanas Part 1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : ,
शेयर जरूर करें
Asanas Part 1  by श्रीमत कुवालायानान्दा - Srimat Kuvalayananda

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्रीमत कुवालायानान्दा - Srimat Kuvalayananda के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
उप व 51 08 आ..ए5771२७प1085 15 अाडएदफ 2500 साईिनडाएक दा किला सिधिफुड्ड ( कद लिदहिष्ट ) न ऊिफ्तुबत छुबैडघए08. 0 घि6 ए०१8 ०56 ( खधव० पिहिप्ण ) छाप्पुंगछुदबघाएघ ( कट पिएं के न रस बन किरफृकाधाि0णा व जि वि कणिंपीडिाछ ..- रन्र न्ज डिडाइप्फैडशए8 ए दी6 ह 0ठपर् रि०56 सका यम ै+तीघ-5८ा20पई5208 ण. घा० से 1 06ए85 रि086 (उप्र 2०9 उद्धडर्वी ) बम फ्स्क झ ै्ती०9-दिंड] छा कि5धा8 ( उ.दा त.स्‍ उदाउस्वे 2 दा वक्त घारीअघ एम 0 ५0 छिए्स वि०56 ( दिए लिप है न वफफछ पािउयाघ (सकती ििहष् ) न बन बम्म उिल्धपपछू घर सिच्टों 0ए घी. टंचरएत दि. तैवी8- गौ 5011 पी 38118. कक मर न क्म् अत छीएघ- 85% हा पएीडघक (दिया द2. 02 उस ये न न श्स्र जब क्भ्क ०० औैएपीव-घ५5िक्०तेरकडदा 07 घाठ सिका दिलाता ०86 ( उफणाप व हिएए ) अड कर भ्भक सैपद-ैव घ5कु लप0े0द 5घशाद ( कट िटिप्ट ) .०न नस भद्एवै3घाध8 0 घि0 किन्सडहप रि०5७. ( तल. उपाधि बकृदाद पड ) कस सम लि बस कोराहिडघाधक ( 2 उदय कर पड 2 न भर डिफि8छाघ 0 फिर हत0ए रि050 (एप पािष्ट ) जिंक्रपचडउघ्नाघ (हू कट पार्प्0 ) अर कि वेसिएृधर्कानि0ा वा हे घपाकी88श ... -.- ला सम कनतुष्डघाफ 07 पघिए रिहारांट ि०व6 ( उप प्ान्प् 2 का घुर्सीडधाधक ( कट प्राहाए एड पदापकडएक 2 ्ड घतुछिडाघ. ( सफल प्राश्प्ण्य भभ जिपकृधद्वि- है धातु एवैडघणध 07 फ्ील उिप्फूषाह इिहाशांट टि०80 सि्रडपिंफाबिएघ 07 घिट रि08पहाए07-जिधिलटीपएड 1030 (516 हक ) कक ० ककया कज्क 19 सि&् 83 86 87 85 88 89 1 9 2 शी 95 01 968 100 100 101. 01. 408




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :