मानस परायण | Manas Parayana

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : मानस परायण  - Manas Parayana

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about विभिन्न लेखक - Various Authors

Add Infomation AboutVarious Authors

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१०२७ श०२८ १०२९ १०३० १०३१ श्०्ऐे२ श्०रेरे १०३४ १०३५ १०३६ १०३७ शू०३८ १०३९ १५१२ १५५१२० रंगीन अजुनको गीताका उपदेश कं अर्जुनकों चतुर्ुजरूप- का दर्गन भक्त अर्जुन और उनके सारथि कृष्ण परीक्षितकी रक्षा सदाशिव शिवपरिवार न्द्रदोखर कमला सुवनेश्वरी श्रीजगन्नाथजी यम-नच्चकेता ध्यानयोगी श्रुव घुव-नारायण ० सुनहरी . -91 न्पे २०१४७ २०१४३ र्०्४२ १०४३ १०४४ १०४५४ श्०४६ १०१४७ १०४८ १०४५९ बालकॉंको राम-राम जपनेका उपदेश समुद्रमें पत्थरोंसे दे प्रह्मादका उद्धार भगवान दसिंददेवकी गोद भक्त प्रह्माद पंवन-कुमार भगवानकी गोदमें भक्त चक्रिक भील शंकरके ध्येय बाठक़ष्ण भगवान श्रीशंकरान्वायं श्रीश्रीचैतन्य चेतन्यका अपूर्व त्याग भक्त घन्ना जाटकी रोटियाँ भगवान ले रहे है त्रों (3 भ्झ्‌ चित्रोंके साइज) रंग ओर दाम ७9६१० सुनहरी ७९१०५ रंगीन 215 है पा । ) श्०५१ श्०्५्२ १०५३ की १०५४ १०५५ १०५६ १०५७ १०५८ १०५९ ५९७ रंगीन गोवित्दका खेछ भक्त गोपाठ चरवाहा मीराबाई ( कीर्तन ) भक्त जनाबाई और भगवान्‌ भक्त जगन्नाथदास भागवतकार श्रीहरिभक्त हिम्मतदासजी भक्त बालीग्रामदास भक्त दक्षिणी तुलसीदासजी भक्त गोविन्ददास भक्त मोहन और गोपाल भाई ं शुच्ि० | पंता-गीताप्रिस गीरखपुर +बजला9+ कक नीबाउसरनद)-लटच(१शडालकए बसियका-ॉदिस ६)-बटिजा ऐकनरफेवी- कफ दी बराक ?दाटिकेज दस (१कि 4 तिएजाकाटयलनररातइकद-बजलनान दी जाके (1 बता) लटका (कवायद () देकर 1) ीववटकय 4 ।-नटा ( चलाए 0 प्रदाता 1? कतार 1 काया न पटकरनयू कया कप ददू- यान... पवन फदल्ययाब व पाठशालामें प्रह्मादका | १०५० गोबिन्दके साथ श्०६० १०६१ १०६२ १०६३ १०६४ १०६५ १०६६ १०६७ श्०६८ श्०द्९ १०४७० १०७१ १०७२ रे परमेष्री दर्जी भक्त जयदेवका गीत- गोविन्द-गान ्षपि-आश्रम श्रीविष्णु भगवान्‌ कमलापतिस्थागत सूरका समर्पण मोँका प्यार प्यारका घन्दी बाढलीला नवधा भक्ति ओमित्येकाश्र ब्रह्म श्रीमनुशतरूपा देवता अतुर और मनुग्योंकों ब्रह्माजीका उपदेदा रद एक ही चित्र २५० ढाई सो या अधिक छेनेपर रेट इस घरकार होगा--ससाइज ५०९९० सुनदरो १००) प्रतिदजार साइज १५०१२० स्गीन ७०) प्रतिहजार साइज ७0६९० खुनदरी २५) घतिहजार साइज जो रे० रंगीन १८) प्रतिहजार साइज ५०७ १२) प्रतिहजार । १५९२० साइजके सुनहरे १० रंगीन ४७ चिन्नोंके सेटकी नेट कीमत ३॥ ) पैकिज्ञ &) कुछ छागत ५) लिये जायेंगे । ७॥१६१०. साइजके. खुनहरे १७ रंगीन २५९ और कुछ २६९ चित्रोंके कीसत छो-)1ड पैकिज्न )॥ह डाकख् १८) कुछ ५॥) लिये. जायेंगे । कुछ १४) लिये जारयेंगि । रेढपासंखसे मँंगानिवाले सज्नोकों ८॥)।॥है चिन्रका मूदय पैकिज्ञ £) भेजना चाहिये । साथमे पासके रेलवेस्टेशानका नाम लिखना जरूरी है । नियम-( १) चित्रका नम्बर नाम जिस साइजमें दिया हुआ है वह उसी साइजमें के डर 9 डाकखर्च के सेटकी नेट ५१७) साइजके रंगीन ७२ चिचघ्ोका नेट दाम ॥£)॥ पैकिज्ञ )। डाकख्स।-)। कुल है दा ८) लिये जायेँगे शु५०६२० ७9११० ५४७॥ के तीनों सेटकी नेट कीसत ८॥। )॥ई पैकिज्न | डाकख् गे रजिस्ट्री 1) छुल ०) देते समय नस्बर भी देख लें । समझकर आडेरमें नस्वर नाम अवद्य लिख दें। (२) माठ्गाड़ीसे चित्र मैँगानेपर कुछ माठका चिन्रॉंकी क्लासका किराया देना पड़ता है किराया अधिक ऊगेगा वह झाददकोंके जिसमे होगा आडर देते समय इस नियमकों ३०) के चित्र छेनेसे ्राइकके रेलवेस्टेशानपर मालगाड़ीसे फ्री डिलीचरी दी जायगी। खर्चा आहककोको देना होगा । ( ४ ) केवल २ या ४ - चित्र पुस्तकॉकि साथ या अकेले । (५) कल्याण के साथ भी चित्र नहीं भेजे जाते । नोट-सेट सजिल्द भी मिला करती है । जिल्दका दाम १५०६२० का ॥0 जाज(१० का ॥) भष्ता व क्योकि रास्तेयें टूट जाते हैं जाता है. । सजिल्द सेटका डाकखर्च ज्यादा लगता हूं । स्टाकमे चित्र समय-समयपर कम-अधिक दोते रदूते हैं तैयार रहेंगे उतने दी चित्र भेज दिये जायेंगे । &. लत डुस्तकोकि साथ लिये समझ लें। (३) रजिस्ट्री वी० पी ले नहीं भेजे जाते न इसलिये सेटका जार्डर गानेपर जितने लित्र स्टाकरम बस मी




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now