महामना मदन मोहन मालवीय जीवन और नेतृत्व | Mahamana Madan Mohan Malviya Jivan Aur Netritva

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Mahamana Madan Mohan Malviya Jivan Aur Netritva by अज्ञात - Unknown

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१. ( उप हे बनारस हिन्दू युनिवसिटी--किक्षा का प्रसार, मालवीयजी की योजना, श्रीमती बेसेन्ट की योजना, मुस्लिम यूनिवर्सिटी की योजना, हिन्दू यूनिवर्सिटी के लिए काम, सेन्ट्रल हिन्दू कालेज के अधिकारियों से समझौता, सरकार से विवाद, बनारस हिन्द यूनिवर्सिटी बिल, विश्वविद्यालय का उद्घाटन, पदाधिकारी और सहयोगी, विदवविद्यालय की विशेषताएँ, विद्वविद्यालय के प्रबन्घकों में विवाद, मालवीयजी का वात्सल्य, राजकुमार का रागत, सन्‌ १९२९ का मालवींयजी का दीक्षान्त भाषण, सरकार से विवाद, राधाकृष्णन की नियुक्ति, रजत जयन्ती, सन्‌ १९४२ का भान्दोलन, प्रगति, इकबाल नारायण गुर्टू श४९-१७५९ भारतीय विधान कौंसिल--कॉंसिल की शक्ति, रचनात्मक समीक्षा, केन्द्रीय सरकार की वित्तीय, आधिक गौर प्रद्यासचिक नीति-रीति की समीक्षा, रेलो के राष्ट्रीयकरण की साँग, किसान, समाज- सुधार के प्रदन, शिक्षा का विस्तार, अनिवार्य प्रारम्भिक शिक्षा विधेयक, सरकार की प्रतिक्रियाएँ, प्रतिज्ञा बद्ध कुली प्रथा, सरकार की संवैधानिक निरंकुशता, प्रेस विधेयक, विद्रोह सभा विधेयक, भारत रक्षा विधेयक, रौलेट बिल, काप्रेस का प्रयाग अधिवेदन, राजनीतिक सुधारों पर प्रस्ताव, इस्लिगटन कमीशन की सिफारिशों का विरोध, सुरेन्द्रनाथ बनर्जी का प्रस्ताव, युद्ध के लिए अनुदान, मालबीयणी का नेतृत्व २८०-२१५ राजनीतिक जागृति, दमन श्रौर सुधार--विद्वयुद्ध, मुसलमानों की प्रतिक्रिया, क्राम्तिकारी विद्रोह श्रीमती वेंसेन्ट और तिलक की प्रतिक्रियाएँ, होमरूल भान्दोलन, कांग्रेस के पुराने नेताओ की प्रतिक्रियाएँ, काग्रेस और लीग में सहयोग, १९ मेम्बरो का सेमोरडम, काग्रेस लीग योजना, साम्प्रदायिक ससझौता, मालवीयजी का प्रचार, दमन, करटिस-ड्य.क योजना, भारत सरकार की १९१६ की योजना, चेम्बरलैन का इस्तीफा और मादेग्यू की नियुक्ति, २० अगस्त सन्‌ १६१७ की घोषणा, काग्रेस का कलकत्ता अधिवेशन, माटेग्यू की भारत-यात्रा, सुधार योजना, मालवीयजी की समीक्षा, बम्वई में काग्रेस का विज्षेष अधिवेदान, एकता के प्रयत्न, काग्रेंस का दिल्‍ली अधिवेशन और मालवीयजी का अध्यक्षीय भाषण, भस्ताव २१६-२४८




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now