विनय - पत्रिका | Vinay Patirika

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Vinay Patirika by गोस्वामी तुलसीदास - Goswami Tulsidas
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 12.3 MB
कुल पृष्ठ : 468
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

गोस्वामी तुलसीदास - Goswami Tulsidas

गोस्वामी तुलसीदास - Goswami Tulsidas के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
श्रीश्रीरीतारामान्यां नमः विनय-पत्रिका राग बिलावल श्रीगणेश-स्तुति श गाइये गनपति जगबन्दन । संकर-सुवन-भवानी-नन्दन 1१0 सिद्धि-सदन गज-बदन बिनायक । क़ृपा-सिन्धु सुन्दर सब लायक मोदक-प्रिय मुद-मेंगठल-दाता। चिद्या-वारिधि वुद्धि-विधाता ॥३े॥। मौगत तुलसिदास कर जोरे । बसहिं रामसिय मानस मोर 121 सावार्थ-सस्पूण जगत्‌के वन्दनीय गणोंके स्वामी श्रीगणेशजीका गुणगान कीजिये जो शिव-पावतीके पुत्र और उनको प्रसन्न करने- १




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :