विनय पिटक | Vinay Pitak

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Vinay Pitak  by राहुल सांकृत्यायन - Rahul Sankrityayan
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 22.8 MB
कुल पृष्ठ : 615
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

राहुल सांकृत्यायन - Rahul Sankrityayan

राहुल सांकृत्यायन - Rahul Sankrityayan के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
९ 3 प्रस्तावको दृहराते हुये उसके विपक्षमें बोलनेके लिये तीन बार तक अवसर दिया जाता था जिसे अ न - श्रावण कहते थे और अन्तमें श्रा र॑ णा द्वारा सम्मतिके परिणामकों सुनाया जाता था । अन्य पुराने प्रंथोंकी साँति इस विनय-पिटकमें वर्णित विषयोंकी सुर्खी देनेंका र्याल बहुत हो कम रबखा गया है । वस्तुत यह ग्रंथ तो कंटस्थ करनेवालोंके लिये था और उनके लिये सुखियाँ उतनी आवश्यक न थीं । मेने सभी जगह अपेक्षित सुखियोंको भिन्न टाइपोंमें दे दिया है। अपने पहिछेके अनु- वादोंकी भाँति यहाँ भी अन्तमें विस्तृत परिशिष्ट दे दिया है । यदि पाठकोंकी सहायता प्राप्त होगी तो रह गई शुटियोंको दूसरे संस्करणमें ठीक कर दिया जायेगा । च्दया ) राहुल सांकृत्यायन ७-७-३४ ई०




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :