स्वर्ग की सड़क | Swarg Ki Sadak

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Swarg Ki Sadak by महावीर प्रसाद गहमरी - mahavir prasad gahmari
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 16.31 MB
कुल पृष्ठ : 568
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

महावीर प्रसाद गहमरी - mahavir prasad gahmari

महावीर प्रसाद गहमरी - mahavir prasad gahmari के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
दिपय सूची १ । लक बाएं पायल पवारररावाण पा वाटवथय या संय्या घिपय घु् र०९-साइयो घर्म मोर भक्तिका काम जद्दू कीजिये . उसे चादेपर मत रखिये । - ३११०-छाद्मी अपने मनमें जेसा विचार करता दे भागे जा- कर बेला ही दोजाता है किसी ओछे विचारके साथ घत खेलना _ ३११- आइमी अपने मनमें जैसा विचार फरता दे आगे जा- कर वैसा ही दोजाता दै। (३). ८३ श्१२-दाख और सेत कहते है कि सत्संगकी चढिद्दारी है ३८८ ११३-सत्संगमण्डछीमें किसी सन्तके साथ रहकर भक्ति करनेसे जितना भानन्द म्िछता दे उतना आनन्द उस स्थान तथा उस सगके छोड़नेके याद नददीं मिलता ३९० इसका कारण । . ११४-किसीने कुछ थाती रखी हो और वदद वापस ले जाय . .. हो इसका अफसोस नहीं करना चाहिये । ३९२ श१५-हम सबको केसे धर्मगुरुकी जरूरत है ३९५ शरद अब दमें यह समझना सीखना चाहिये कि जिन उच्छे कामोंले बहुत आद्मियोंकी मलाई दोंती हे थे सब घर्मरे दी काम है। ३९८ १७-मगवानकी महिमा थे ४०१ १६८-वैराग्य दिशाकर या उराकर भक्ति करानेकी अपेक्षा भ्रसुप्रेम चताकर तथा परमुकी महिमा समझाकर भक्ति £ कराना भरच्छा द्‌ 1९ --याद-रखना कि अपनेसे काम पड़नेवाले किसी आदमी को कोई बुरी आदत था घुश व्यसन लिला देना ए बड़ा सारी पाप दै । -.... ४०४ ० प्रभुके झपण दजातलेक मलि कया १ ( १) ४०७ २१ -पमुके जपेण दोजानेके माने कया (२)... डंए०




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :