संगीतिका | Sangeetika

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sangeetika by श्री. विश्वम्भरनाथ भट्ट - Shri Vishwambharanath Bhatt
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 6.06 MB
कुल पृष्ठ : 256
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्री. विश्वम्भरनाथ भट्ट - Shri Vishwambharanath Bhatt

श्री. विश्वम्भरनाथ भट्ट - Shri Vishwambharanath Bhatt के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
राग मैरवी ( कहरवा ) स्थायी जद भ्र्ट 4 सर मम म.।म - सम म.।ग प सम प.गु रः ग मन जय प रे 5 पी पार म प दू दा 5. सा 5 ग॒ ग॒रे साख रेग़॒ मरे ग़॒स रे| स -. - सख मतिदा 5|ता 5 म 5.।ग ल क र|ता 5. 25. र अन्तर थ॒ -ध धघ।- म ध न न स.- सच ज़स रे स स वी 5 त रा |5 गम ख र व 5 श्ञ द(या5 5 मम य तन रे स न्ाघ खनन धाप न घ प।- -. -. - शु खणुसखसा 5 ग रथ दि का ६ 5 ५४15. 5. 5 र. सम - म मम - प स(ग॒ य॒र खास र सर गु सख 5 त्यहिं|त 5 क र शशि व म ग.।ने ४5 ता5 & सखपसमगसम मर यथ स रेस - - -|-. -. -. - जञ य श्र रद न थ व।| ता 5 5 5 5 5 5 रा जय परमेी परमपददाता मतिंदाता मज्लकरतार | फिर शेष श्न्तरे इसी श्न्तरे के समान ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :