संक्षिप्त सूरसागर | Sankshipt Sursagar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sankshipt Sursagar by प्रेमनारायण टंडन - Premnarayan tandan
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 5.82 MB
कुल पृष्ठ : 586
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

प्रेमनारायण टंडन - Premnarayan tandan

प्रेमनारायण टंडन - Premnarayan tandan के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(के यह आासा पापिनी दे । तक सेवा बैकुंटनाथ की नीच नरनि के संग रहे । लिनकी मुख देखत दुख इपश्व तिनकौ राजा-राय कहे । घन-मदु-मूढ़ति भमिमानिनि मिलि लोम किए दुर्वेधन से । मई ने कृपा स्पामसुंदर की झग कद स्वारथ फिरत चई 1 सूरदास सब सुख-दाता प्रमु्युन बिचारि नदिं चरन गद्दे २० इदि राबस को को न चिगीयौ ? दिरनरेसिपू दिरनाष्द् भादि दी धन बुमिकरन बुख खोयो 1 कंस केसि चादूर महाधल्र ऋरि निरवीब उमून-भज्ञ चोयी जश्व-समय सिसुपात सुजीभा भनायास लै यौति समोपी-। जइा-मददारदेव-सुर-सुरपति नाभत फिर मददा रस मीगी । सूरदास सौ परने-सरन रही सा जन निपर नींद मरि सोयी॥ मा फिरि फिरि पेसोई दे करत । लेसैं प्रेम पहंग दीप सी पाषफ हू मे बरत। सब-ुख कप झान करि दीपक देखत प्रगट परत । कास-म्पाल रज-ठम बिपन््याला कत सह जंतु मरत । अधिदित बाइ-बिधाव सकल मत इन ल्षगि मेप घरत। इद बिधि ज्मत सकल निसि दिन गव ककछछू न काज सरत | अगम सिंघु खतननि सब नौ देठि कम भार सर्व । सूरवास-बत थे कृप्पा मणि मत जलनिधि उतरत ॥ २६1) मापी मैंकू इटकौ गाइ। मत मिसि-वासर अपय-पथ अगद गदि नदिं जाइ 1 छृषपित अति मे अपमाति कपहें निरम-डूम दुलि स्वाइ 1 आअप्ठ इस पर मोर भंचवति दुपा हउ ने युम्धइ दी रस मी परी भारी तह ने गंप सुद्दाइ। और अदित अभग्ट मच्द्ति कला परनि मे थाइ |




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :