संक्षिप्त जैन इतिहास (भाग 3 खण्ड 2) | Sankshipt Jain Itihas Bhag-3 Khand-2

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : संक्षिप्त जैन इतिहास (भाग 3 खण्ड 2) - Sankshipt Jain Itihas Bhag-3 Khand-2

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कामता प्रसाद - Kamta Prasad

Add Infomation AboutKamta Prasad

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
न~ ५ ८ ৯৬১৯০ (सन्य स पार क्ष लपनी मतिमा भोर प्रतिष्ठसे हान पोर बेनदेन परेण अपना मप्वित्र बनाये हे । ८ है दे्छिसिष कारे स षम उनका एमन सथुदपुतभे एषोदमे मिड्सा है मिप्ते कहलंयराजा किष्णुमोपको सत्‌ ३५० है पें पराण কিমা মা। भपते उत्क समगये पकड़ राण्य उरी सीमा नरमंदा बी नौर शी पार गव । पपतम पयते प्र खक डमका राय था | उगपऐं पहछे-बहले सिंद क्ब्यु नामक राजा असिद्ध हुला बा। टसेका कड दादा! मा कि डसने दहिजके तीनों साभमो$ निरि भाषे मी पिलम कवा वा | डस्का इत्तराबिकारी उसझा पुत्र महेन्द्स्मन्‌ प्रथम हुणा। रषी एति पारमे परी हं मुपि ; मदेलमेन्‌। उन भगणिट मैदिरोसि है जो तृजगापसती বিরক্ত ग्द नर भौर दशिय नरपे मिछते हैं। उप्तमे महे्य॒वाड्ी भासका पक बड़ा सयर बस्ताजा लोर ফট प्रमौप एक अदा तापर अवने माम खुद॒बाजे!। इस राशाकी शिधा भोत ककासे लति पेम था। इसने (मचमिडाप माहम्‌! माम एष प्र, खा भ) अपमें मित्र मतोंका उपहासत किया है । 2. '्राठे हैं कि पहुंच बंसफा सबसे भामी राजा कसिहदर्न्‌ भा। 5 इसने पुछडे छिन्‌को परास्त करके सन्‌ शृशर সুলক্তা । है पें बातापि (बादामी) प। लबिदार সান. ल्‍ौाउ ८/... किया जिससे चाउनर्थोको मारी कृति डठाणी




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now