भाषा - विज्ञान - सार | Bhasha Vigyan Sar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Bhasha Vigyan Sar by राममूर्ति मेहरोत्रा - Rammurti Meharotra

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about राममूर्ति मेहरोत्रा - Rammurti Meharotra

Add Infomation AboutRammurti Meharotra

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
ष् भाषा-विज्ञान-सार इतिहास का पता नहीं लगा सकते ओर यदि इतिहास का पता न लगेगा, तो सिन्‍्न-मिन्न शब्दों में और उनके रूपों में कया और केसे परिवतन हुए, इसका ज्ञान प्राप्त नहीं हो सकता । इस म्रकार याद किसी भाषां में साहित्य न हो तो उसका भाषा-विज्ञान भी शून्य हागा। उदाहरणाथ यदि संस्कत, प्राकत और अपध्रश आदि में साहित्य न हेतता, तो भाषा-विज्ञान इतनी उन्नति न कर पाता । ऋग्वेद की भाषा से पूर्व का काई साहित्य न हमने के कारण उस समय का भाषा-विज्ञान भी कुछ नहीं है।. साहित्य भाषा-विज्ञान का सुख्य आधार है। मानव-विज्ञान से संबंध -मा्नव-विज्ञान का मुख्य विषय यह है कि मनुष्य नै प्रारंभिक अवस्था से बतंमान अवस्था तक किस प्रकार उन्नति की, उसका विकास किस प्रकार हुआ । यह उन्नति दो प्रकार की है (के) स्वाभाविक या प्राकृतिक (ख) सांस्कृ- तिक । संस्कारजन्य उन्नति यह बताती है कि मंतुष्य की रददन-सहन बातचीत, लेखन-कला आदि का विकास ककिस प्रकार हुआ । भाषा और लेखन-प्रण[ल] की उत्पत्ति और ब्िकास भाषा-विज्ञान के भी अंग हैं। अत: सानुव-विज्ञान और भाषा;़विज्ञान में घनिछ संबंध है | थ के इतिहास से संबंध--राजनैतिक परिवतनों ओर विप्लवों का प्रसाव भाषाओं पर भी बहुत कुछ पड़ता है। उदादरशाथ अप- भ्रश के देशव्यापी हाने का कारण आमभौरों का प्रमु्व था; हमारी बोलचाल की भाषा में उदं; फारसी और चँग्रेजी शब्दों के प्रयोग का. कारण * यँथा-समय सुसलमानों ,और यूरोपियनों के साथ हमारा संसरों ही है | डी समाज से संबंध--भाषा-विज्ञान का मुख्य विषय भाषा है ब्यौर भाषा समाज सापेच् है? भाषा समाज का दुपण है । राजनैतिक घामिक ओर सामाजिक स्थिति का भाषा पर बहुत कुछ प्रभाव शो छ- थे




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now