धन्वन्तरि भाग 20 | Dhanvantari Bhag-20

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : धन्वन्तरि भाग 20  - Dhanvantari Bhag-20

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

वैद्य देवीशरण गर्ग - Vaidh Devisharan Garag

No Information available about वैद्य देवीशरण गर्ग - Vaidh Devisharan Garag

Add Infomation AboutVaidh Devisharan Garag

वैद्य बांकेलाल गुप्त - Vaidya Bankelal Gupta

No Information available about वैद्य बांकेलाल गुप्त - Vaidya Bankelal Gupta

Add Infomation AboutVaidya Bankelal Gupta

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
0९ पवार हैं. उपाए, हमरहतावलाााा हि न 2०न्नन्माड छा ईद]: ऐ सपनकापरन छिव िवाइ, रा दिवस दराटन्माक सर . दाानाथा , 4 यसर्गिडलपिसा केफिगसिटलफ लिन कसकेनबपनककिरस्‍रसरेनकनगसनरथ, स्स्ट्सपस्ट्न्ट शा उनपन्वन्लवकट िननरस्प के दस ककरगादाए मी पे न्फुर सर ६ ुगगरु है मसूसुस्टपार, नर चेन पफस्ट डा मरा ५ रु मा: ही न कट कप रथ हर ि [ड हट क या के बा [ कक र हू कक दि चर ता पी री ही दी था ्क दि कि न डे जे भ ग् ् का बज 2 2 का रकिनननव रे दिस. टिक थ हे है उमर है नर हि अन्न रा दि दर न्स्स ् सन हमर क्‍ सदसयमनय गहिड नाग ग दे :. छूिनट, दंड नये जो है ये की थ न म के दि स हि पह ड् पटना या दे सदन, स्अलिन न ही कक तर क चर रुप «1 ही कु री 4 हैः» ७ पे की ही दे है पक धि हुए दब का 5, दर 1 कप (न न पक गा यननयधरन हर को थ कु न दो न न हू न सपा पाए * हर पक भाग हि « दर है दि हद दर ध् शु न धाम हे रे [11 5११ पिया ७ डी न हर न ३ १०ार्कलसलर, है. « री है दर ईद डी बन्द दे व ५४ कि 2 कि ् रु च्सन्ट्र दर ७ १ की ड् नर ्प । रा य : न कर न सार 2१द,६९१४ दा. है नमक सा ह न्न्न्य ्ध्लद हुए डे सा डर दि सर कक कद चर ही कूलर प्मट बडा र व कर पिन नह की मद कक दि गा थे, 5 न न क नि क मिट जि परिसर उ पर नरक ला ७ कि ब्गश न के हा «के, हु पक मे थे. मा नस्ल हद अं, - निम्न बसम्थ्यणय डिटेल न च हर हि डर 2222 कि गम लिन रे दि जन उुडपयि श्र ग् कट गा के तन टन न लटक .. लि कक पा समरीगट ः रा न ५ थे क! द नर न चर अप हन द््् न्यू फूल रह हा ग अग है. ४६ थ्ड ड 1 अर्थ जे के ्न्क” जा भर हू अप थी ष दर सिर दशा सता कननपशिकाफनय सफा पं, मी ' 2 4.5 हैक पर रद, हद इक वा... यानि शा प्न सस्पारका-शीफरिसरल प्रपाप दर ही ससायनापार्, दिवीएसनशादुर्पदिए, दो दिन्दू ि्धिरासस समारस कै, ड्. ः दि ( कधगपरश पर ना सौपि भपडार किमिर पदयी 1 कं हा, रे मर फारसनन्यंध पॉडेक्ाण एप. ;. मंच पदीरारदा सारे लि कव्दवद्रधनिवलाएग सकने सकसक नल सि्िलसटरलवककरसमसकपूरिगनागिशशशकगरथकलण,, हि हू श '्ु चुगनसीराईं पद स्‍0 कटप अनदर नाच सम सी श्थ रन र्घ् र--रशर हे -् ही साफ १० पमू ३६४४ हु) नमन घटनिध्ा,ना सेन सप्ार,. पेघरया घट शी “व्न्ट्म श्प मर ्त्स यम ्टर य्य् मग फट दिशा डे हर ८ से ् ब्ध दे थक हा है 2६४०४ रू ६ चना ियर् जा दिननपवकक बा हर सानिपमूव +.. कल पीयूपपूरमिमरस्थ सूखे... सुराणामू । रुप्ज्ञाते जीणों झगवा. जपिने. प्रशंसो, घरधन्तरि से. भगवान भविकाय भूथात समाचार म दर थे मर ्भ् पद पं 3 न ! उं ्‌ ् न हद न व अब जलन >> पड घर पी रन ६: ट् फ्ि पु पे 5 दर, धन लिन श् न ह थी देवों पो समर मोर मनुष्यों ढो निसाय करने के लिये. हूं १, धन त्व त् हाथ में अमस रो पूर्ण कक्षश ले समुद्र से प्रादुभ भा कि | श 1 ऐसे “मिगवाम घन्वस्तरि” इसारा बल्याण कं द्् न्रिद 2 न््ग कक र हर रेस घट सिरे इक फिर धरे छर बेड पिन उपर: ड 2 उचिकया दर हा दे




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now