धन्वंतरि वनोषधि विशेषांक भाग - 3 | Dhanvantri Banoshdhi Vishasank Part-iii

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Dhanvantri Banoshdhi Vishasank Part-iii by गंगाप्रसाद - Gangaprasadवैद्य देवीशरण गर्ग - Vaidh Devisharan Garag
लेखक : ,
पुस्तक का साइज़ : 45.16 MB
कुल पृष्ठ : 548
श्रेणी :
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

गंगाप्रसाद - Gangaprasad

गंगाप्रसाद - Gangaprasad के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

वैद्य देवीशरण गर्ग - Vaidh Devisharan Garag

वैद्य देवीशरण गर्ग - Vaidh Devisharan Garag के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
डे ११० वेद्यकीय खुभापितावली--डा० प्राणजीचन मागैकचन्द मेहता । वेद से लेकर वै्यजीवन घ्ंथ तक में आये हुए आयुर्वेदिक सुभाषितों का संग्रह । मूल संस्कृत अग्रेजी अजुवाद सहित २-०० बुदूद वैद्यजीवनसू--भभिनव सुधा हिन्दी टीका टिप्पणी सहित । टीकाकार--श्री कालिकाचरणचास्त्री शु-मण १५२ चेदासहचयर--आयुर्वेदाचार्य श्री विश्वनाथ द्विवेदी । लेखक के ४० वर्षों के छाभग्रद सिद्धयोगों का संग्रह ३-०० ११३ व्यचहारायुवेद-चिषविज्ञान-अरद्तन्त्र-डा० युगल किशोर गुप्त एवं डा० रमानाथ द्विवेदी एू-9०9 ११४ झाद्य प्रदीपिका-- सचितन्न डा सुकुन्दस्वरूप वर्सा । शत्यविज्ञान की उत्तस पुस्तक १२-५० ११५ झाव्य तय से रोगी परीक्षा आंफाए्क 6008 ता उपूनाफ -ा० पी. जे देशपाण्ढे ७-०० ११ ६ चाडधरसहिता--नवीन वंज्ञानिक विमशंपित सुबोधिनी हिन्दी टीका सहित । परिष्कृत चवीन संस्करण ५-०० ११७ सालाक्य तन्न्न निसितन्त्र --इस पुस्तक के ५ भागों में क्रमशः नासिका दिर कान सुख एव जाँखों के रोगों के हेतु निदान समस्प्राप्ति जाद़ि की विस्तृत विवेचना की गई है न्यय ११८ दिलाजीत विज्ञान--शिलाजीत का परिचय क्ोधघनादि तथा अनुभूत योरगों का विशाद चर्णन है ०-७५ ११९ सचिच-इन्जेक्शन--डा० शिवनाथ खन्ना । इन्जेक्शन देने से जितनी सावधानी विज्ञता जौर कुदालता की अपेंक्षा होती है उन सभी विपयों का सांगोपांग विवेचन प्रस्तुत पुस्तक का विपय है १०-०० १२० उिफाए्छ0छ फिफिाएल का. ऊै-प्रपा्प8 फैए 2 9. 10. जिए्छान धाणठे ता काण0पे8ा छीकाए8 िंघपा 5-00 १९१ सासान्य रोगी की रोकथाम--ढा० प्रियकुमार चौबे । इससे सभी सामान्य रोगों का परिचय छक्षण तथा उनसे चचने के उपायों का सचिन्न चिवेचन किया गया है ३-५० १९९ सिंद्धभेपज सम्नह-जाचाय युगल किशोर गुप्त तथा डा० गयासहाय पाण्डेय । राज सस्करण ९-७७ उत्तम सस्करण ८-०० सुल्म सस्करण ७-०० १२३ खुश्रुतसंहिता--आायुर्वेदुतस्वर्सदीपिका हिन्दी टीका चेज्ञानिक विसर्श सहित ।.. टीकाकार-कविराज अभ्विकादत्त शास्त्री । टीकाकार ने मूल संहिता के भावों को सरक्त भाषा से नवीन विज्ञान के साथ तुलना कर विपयों को अधिक स्पष्ट एव घुद्धिग्राह्य बना दिया है । १-२ भाग सपूर्ण झंथ २४-०० १२४ सुश्रुतसहिता--सुदामा मिश्र कृत सुधा सस्कृत टीफा सहित क प्रेस में १९५ खुशुतसंहिता शारीर स्थान--नवीन वंज्ञानिक प्रभा - दपंण हिन्दी व्याख्या सहित दे-५० १२६ उप्र लाश भा 8 छिप छठे एणाफालालाभाए6 पाफिए0प्टघाणा सिवछपिडी। घिधताइ2५1011 20 पा्िटए ए७800858 60 . पर्तधि विधि. छिए एकल पटिपा 8191 छििउघ वि 3 ०5. ०0186 60-00 4२७ सूीवेंथ विज्ञान--डा० राजकुमार द्विवेदी । परिष्क्रत द्वितीय सस्करण चनभक १२८ सोशुती-+ढा० रमानाथ द्विवेदी । प्राचीन संस्कत अन्थों मे इस विपय की यत्र-तत्र बिखरी हुई सामग्री को क्रसवन्ध एव भावुनिक विज्ञान से आलोकित सर भापा मे प्रस्तुत किया है । द्वितीय संस्करण . ८-५० १२५ स्टेथिस्कोप तथा नाडी परीष्षा- सचित्र इस पुस्तक में स्टेथिस्कोप की चनावट परीक्षा ध्वनिवर्णन आदि तथा नाढीपरीक्षा संवन्घी सभी ज्ञात्व्य विषयों का वर्णन है ०-9५ १३० स्त्रीरोग-विज्ञान सचिन -डा० रमानाथ द्विवेदी ३-५० १३१ स्वास्थ्यविनान ओर सावंजनिक आरोग्य--ढडा० भास्कर गोविन्द घाणेकर ७-५० १३२ स्वस्थवूत्त समुच्चयय--चरकाचाय॑ श्री राजेश्वरद्त्त शास्त्री कृत हिन्दी टीका सहित ६-५० १३३ स्वास्थ्यसंदिता--हिन्दी टीका सहित । लेखक-कविराज नानकचन्द वेद्य शास्त्री । स्वास्थ्य विज्ञान के सभी सम्भावित प्रश्नों का विवेचन इस पुस्तक से किया गया है २-५० १३४ स्वास्थ्य रिष्ापाठावली--डा० भास्कर गोविन्द घाणेकर । भायुर्वद संहिता ्रन्थों से देनिक भाहार- विहार तथा चिकित्सा के छिये उपयोगी श्ठोकों का सालुवाद सह इससे किया गया है ९० १३५ हैजा विसूचिका चिकित्सा--इससे हैजा का इतिहास क्षण निदान चिकित्सा और उससे बचने के उपाय तथा कुछ अनुभूत नवीन पेटेंट ओोपधियों का भी चर्णन किया गया हे ०-9५




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :