प्रार्थना - प्रबोध | Prarthana-prabodh  

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : प्रार्थना - प्रबोध - Prarthana-prabodh  

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about पं. शोभाचंद्र जी भारिल्ल - Pt. Shobha Chandra JI Bharilla

Add Infomation About. Pt. Shobha Chandra JI Bharilla

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
प्राथना की महिमा रद नाश करने के लिए नम्रतापुदक प्रार्थना करते हैं । इसी भाव से परमात्मा की प्रार्थना करना उचित है । भ्रगर तुम भाश्ञा को नाश करने के बदले सांसारिक पदार्थों - घन, पुत्र, स्त्री भ्रादि के लिए प्रार्थना करोगे तो. संसार के पदार्थ तुम्हें लात मार कर चलते बनेंगे भ्रौर तुम्हारी श्राशाएं ज्यों की त्यों श्रघूरी ही रह जाएगी । हां, श्र१र तुम ग्राशा- तृष्णा को नष्ट करने के लिए. अन्त:करण में पूर्ण निस्पृद् वृत्ति जागृत करने के लिए ईश-प्राथना करोगे तो संसार के पदाथे-- जिसके तुम श्रधिकारी हो- तुम्हे मिलंगे ही, साथ ही शाँति का परम सुख भी प्राप्त होगा । श्रतएव श्राश्या को नष्ट करने की एकमात्र आशा से परमात्मा की प्राथना करो । यह मत सोचो--ईदवर तो कभी दिखता नहीं है, उससे प्रेम किस प्रकार किया जाय ? अगर ईइवर नहीं दिखता तो संसार के प्राणी, कीड़ी से लगाकर कु जर तक, समान है। इस तत्त्व पर विचार करोगे तो ईश्वर से प्रेम करने की बात प्रसम्भव न लगेगी । ईइवर नहीं दिखता तो न सही, संसार के प्राणियों की श्रोर देखो श्रौर उन्हें भ्रात्म-तुल्य समभो । सोचो --जेसा मैं हूँ, वैसे ही यह हैं । इस प्रकार इतर प्राणियों को श्रपने समान समभने से शरने:-शने ईदवर का साक्षात्कार होगा--परमात्मतत्व की उपलब्धि होगी - श्रात्मा स्वयं उस शुद्ध स्थिति पर पहुँच जायगा । तात्पयं यह है कि ईइवर का ध्यान करने से झात्मा




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now