तेरह दिन | Terah Din

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Terah Din by श्री आत्माराम जी - Sri Aatmaram Ji

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about आत्माराम जी महाराज - Aatmaram Ji Maharaj

Add Infomation AboutAatmaram Ji Maharaj

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सलोग कहते थे, कमला की अपने पति से अनबन इसीलिए हुई है और इसी- 'तिए कप्टन वोहरा जालन्धर छोड़ अम्वाला चला गया है 1 तो क्या कमला अपने पति से अलग हो गयी है ? अम्बाला में कुछ 'दिन ठहरना, फिर शिमले जाने का प्रोग्राम ? उमा खिंडकी में से कमला को देख रही थी । कौप्टन वोहरा के साथ 'सटी-सटी-सी कमला स्टाल के पास खड़ी कोका कोला पी रही थी ! पुष्पा ने ढेर-सा नमकीन खरीदा, तली हुई दाल, बेसन के लच्छे । उमा के हाथ में लिफाफे देती हुई बोली--“'वहाँ गर्म-गर्म पकौडे वन रहे हैं, मैं भागकर ले आती हूं । तुम जरा वच्चों को पानी-वानी पिलदा दो । 'खिडकी छोड उमा अपनी जगह की ओर पलटी, देखा डिब्बा ठसाठस भर गया है। चुस्त शलवार-फ्मीज पहने दो लड़कियाँ उसके पास आती हुई चोली--''माफ कीजिएगा, हम जरा इस सीट पर बैठ सकती हैं ?” उमा इनकार नहीं कर सकी, सुरेश को अपने पास बिठलाती हुई चोली-- सुरेश, जरा इन्हें वठने दो ।”” “यह बच्चे आपके हैं ?”” उनमें से एक ने पूछा । उमा सकपका गयी । उपने जल्दी से सुरेश से कहा--“सुरेश, जरा देखना, मम्मी तुम्हारी आ रही हैं कि नहीं ? ” अब उस लडकी को अपनी गलती का एहसास हुआ । क्षमायाघना के स्वर में घोती --“माफ की जिएगा, मैं समझी थी *** ' उमा मुस्कुरा दी--''कोई बात नही, एक तरह से यह अपने ही बच्चे हैं, मेरी जेठानी के बच्चे हैं ।”” दूसरी ने घट से कहा--“तभी मैं भी सोच रही थी कि आप इतनी आयु की मालूम तो नही होती ***”” उमा ने मुस्कुराकर उसकी ओर देखा, फिर हुँसते हुए बोली--''आप दोनों शायद दिल्‍ली जा रही हैं ?” जी ! हम लोग वही न्ट्स्द नीले सरकोनवुसत पोशाक चाली बोली । सच पल तभी गाई ने सीटी दी; सुर 'घव सके मीलिं उठी ०५ आस मनी ही आयी 1” हि “्िग, हर ही




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now