वांगमय विमर्श | Vangamay Vimarsh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : वांगमय विमर्श - Vangamay Vimarsh

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about विश्वनाथ - Vishvanath

Add Infomation AboutVishvanath

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
(४) स्यावदारिक तान + जिसे शाम्कार 'कांवासंसित उपदेश कहते हैं । ह' दखें प्राचीन यंथों में बहुत हो झच्छ दंग से समझाया गया है । संमित या रीति तीन प्रकार की सानी गई है-प्रसुसंसित सुददसंमित ओर कांतासंमित । प्रभसंसित का साथ हया स्वामी की रीति । जिस प्रकार स्थामी सेवकों को किसी काय के फरने था न करने की औाज्ना देता है इसी प्रकार जा रचना थिधि मोर सलिपयथ का ही विधान करनेवाली दो उसे प्रभसंसित उपडेदा देनियालों कटे गे । एसी रीति से उपदेश देनेवाले हूं चुद प्यार शाय्य । सुनतसंसित का अभे है सित्र की रीति । मित्र उपदेश दूते समय झलक उदादस्ण सार इ्रांत प्रस्तुत करके समसा- युनाकर काम सिकानता है । इसी प्रकार जो रचना उदाहरण छोर चष्टांती छारा थिपय का स्पर्टीकरण करती है चठ सददसंमित उपदेश द्सेचाली कहीं जाती है । इतिहास-घंघ ऐसे ही होते हू। इसका बढ़िया उदाहरण है महाभारत । कांता उपदेश या कार्य-लापस विधि-निपेध या इ््रां-मुसन सीखे नहीं करती घक्कता से केवल इंगित करती है । घ्माचरश्यक वस्तु का केवल संकेत कर देती ह। इसी प्रकार जो रचना संकेत द्वारा साध्य का ज्ञान कराती हू उसे कांतासंमित उपदेश देसे वाली रचना कहते हैं । काव्य इसी प्रकार की रचना है । काव्य स्पष्ट रूप से कोई घात नहीं कहता । वह शपना छासिमत संकेत द्वारा व्यक्त करता हैं । जसे-+नरामचर्तिमानस” का साध्य यह हैं कि रास की भाँति लोकोपकारादि करना चाहिए« रावण की सॉति छाचरण न करना चाहिए । ग्रह संफेत से ही वतलाया गया हूं । ऐसा कहने से कई' वात रपप्र हो जाती हैं--पहली तो यह कि काव्य का तथा वेद; शाखर) पुराण; इतिद्दास झादि का लद्य ण्क ही है; केवल प्रस्थान-सेद है । कई किसी सागे से वहाँ पहुंचता है छोर कोई किसी से । दसरी यह कि वेद; शास्त्र ञादि का प्रभाव सले दही किसी पर न पड़े, पर काव्य का छवश्य पढ़ता है। इसका कारण यही है कि काव्य हृदय की भाव-पद्धति पर चलता है. तथा अन्य रचनाएँ घुद्धि की तके-पद्धति यर | साव-पद्ति का प्रभाव श्त्यधिक होता है; तकं-पद्धति का बहुत # जिज्ञासो: सुन्दरीरोत्या काव्य॑ समुपदेशकृत्‌ | ऐिकामुष्तिकादेयत्सो८यमन्यार्थ.. उच्यते ॥--साहित्यसार । 1 मम्मयाचाय ने काव्यप्रयोजन की सूची येँ दी है--- काव्य यशसे '्रथंक्ृते व्यवहारविदे शिवेतरक्षतये । सद्यः परनिद्नंतये कान्तासम्मिततयोपदेशयुजे ॥|--काव्यप्रकाश |




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now