दयानन्दमत दर्पण | Dayanandmat Drpan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Dayanandmat Drpan   by श्री जगन्नाथदास - shree Jagannathdas

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्री जगन्नाथदास - shree Jagannathdas के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
ही ( शु५किसी का चाक्य के चाणों से मर्मस्थान मत छेदी ।मघुर चाणी से निज्ञ भाशय के समभाभों चुग्दोओं नी ॥६०॥ पराये मांस के खाकर जो तन अपन्ना- बढ़ाता हैं ।नरक का .चहद कमातां है न ज्ञीयों के सताशो जी 7 ६१॥सनातनधघमानलम्बियों से निवेदन ॥ जनेऊ छोड़कर तुमने गा कंठी से वंघवाया । करो उपनयन मथवा नाम शूद्रों में लिखाशो जी ॥ €२ ॥ जो घन बेटी पे लेते हैं निकाला उनका जाती से । हैं यदद भी काम खोटा दी सगाई जो छुड़ामों जी ॥ ६६ ॥ फिरो .हा। पूजते फबरोक्ा क्‍या अज्ञान छाया है । चिंघाद की भादि में दूछदका क्यों खर पर चढ़ाओ जी ॥९४॥ ज्जुए का खेलना छोड़ो जी लेश्याओं से मुंद मोड़ो । खड़ा दुष्कर्म हैं छड़केां से प्रीति मत बढ़ागों जी ॥ ६५ ॥ फरे खर्‌डन तुम्हारा और छक्कर तुम से घन मांगे । उन्हें देदेके तुम चन्दा च्रूथा घन क्यों लुटाओो जी ॥ 8६ ॥ जो रक्षा धर्म की चाही मेरे श्रन्थों का फहइलाओ । नहीं फिर मन में पछ़िताओो कुढ़ों और दुम्ख पाभोजी ॥ ६७0 दयानन्दी गपोड़ों से चचाओं धर्म के अपने ।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :