विमल विभूतियाँ | Vimal Vibhutiyan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Vimal Vibhutiyan by आचार्य श्री नेमीचन्द्र - Acharya Shri Nemichandraदेवेन्द्र मुनि शास्त्री - Devendra Muni Shastriश्री पुष्कर मुनि जी महाराज - Shri Pushkar Muni Maharaj
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
8 MB
कुल पृष्ठ :
252
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

आचार्य श्री नेमीचन्द्र - Acharya Shri Nemichandra

आचार्य श्री नेमीचन्द्र - Acharya Shri Nemichandra के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

देवेन्द्र मुनि शास्त्री - Devendra Muni Shastri

देवेन्द्र मुनि शास्त्री - Devendra Muni Shastri के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

श्री पुष्कर मुनि जी महाराज - Shri Pushkar Muni Maharaj

श्री पुष्कर मुनि जी महाराज - Shri Pushkar Muni Maharaj के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
| 1नक्षमावीर सम्राट उदायी दोहाकमा का महत्व-- क्षमाघर्म की साधना- करते व्यक्ति समय । दाक्तिह्टीन रखते क्षमा, उसका क्या है अ्थे ? ॥। मार सके मारे नही, उसका नाम मरदुद । जिसकी हो असमर्थता, उसकी कृतियां रद्द ।। नहीं भावना भी जगे, लेने को प्रतिशोध । उस नर ने पाया सही, सहिष्णता का बोध ॥। नहीं क्रोध का कर रहा, वाणी में उल्लेख । क्षमाघमं का पा लिया, उसने सही विवेक ॥। सपने में भी शत्रु पर, उठा न जिसका मंग । चढा उसी नर पर नया, क्षमा धर्म का रंग ॥। क्षमाशुर करते क्षमा, ओछे नर उत्पात । श्री हरि के उर में न कया, भ्रूगु ने मारी लात ? ॥ श्रमण वेप ले शत्रु ने, लिया पितु-प्रतिशोध । नूपति उदायी ने किया, किचित्‌ सात्र न क्रोध ॥




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :