महाभारत के प्रेरणा प्रदीप | Mahabharat Ke Prerana Pradeep

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Mahabharat Ke Prerana Pradeep by देवेन्द्र मुनि शास्त्री - Devendra Muni Shastriश्री पुष्कर मुनि जी महाराज - Shri Pushkar Muni Maharaj

एक विचार :

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

देवेन्द्र मुनि शास्त्री - Devendra Muni Shastri

देवेन्द्र मुनि शास्त्री - Devendra Muni Shastri के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

श्री पुष्कर मुनि जी महाराज - Shri Pushkar Muni Maharaj

श्री पुष्कर मुनि जी महाराज - Shri Pushkar Muni Maharaj के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
मंगलाचररा| . ... दोहे . ऋषभ जिनेदवर से मिले, जीवन-सुत्र विशेष । जिससे हम सब बुन रहे, जीवन-वस्त्र हमेश ॥।चलती है वर्णावली, लेकर आदि अकार । भआदिनाथ अवतार को, सब करते स्वीकार ॥।एक बिना चलता नही, आगे. कोई अक । आदि जिनेश्वर धर्म की, आदि असुल्य निद्यक ॥।महापुरुष मरते नहीं, रहते अमर हमेश । चलते उनके नाम से, धर्म और उपदेश ॥।हुआ महाभारत कभी, फिर भी प्यारा ग्रन्थ । भारतीयता का हमे, दिखलाता नव-पंथ ॥।त्याय और अन्याय का, दिगू-दशन है स्पष्ट । लिये न्याय के भी यहाँ, सहा जा रहा कष्ट ॥।बुरी तरह होता न क्या, अन्यायी का अत । एक महाभारत हमें, देता. ज्ञान अनंत ॥।“मुनि पुष्कर” संसार का, है यह ग्रत्थ प्रसिद्ध । रुचि युत सुनते वांचते, बालक युवक प्रवृद्ध ॥।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :