जीवन साहित्य | Jeevan Sahitya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Jeevan Sahitya by श्रीपाद जोशी - Shripad Joshi
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
7 MB
कुल पृष्ठ :
192
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्रीपाद जोशी - Shripad Joshi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
साहित्य-सेवा श्रथी: नददीं होता । पुराणकारोंने जिस तरह शग्रत, ' अप्सरा और: 'मीष्यांसि भरे हुए स्वरगकी कल्पना की, श्रुस - तरदद. श्याजकलके बपन्यासकार अऔसेही किसी वेकार '्मादमीकी कल्पना करते हैं जो: वकील-वैरिस्टर हुआ हो, जिसने विलायत्तका सफर किया दो . था 'बसीयतनामेसे जिसको खूब पैसा सिला हो श्नौर अुसके उआत्मनि संतुध” निरर्थक जीवनका सविस्तार वर्णन करते हैं। जातिमेद हमारे मनोरथॉमिं भी शिंतना भरा हुआ है कि सध्य श्रेसीके वाहदरकी ठुनियाकों हस नहीं देख सकते । बिलकुल गरीब लोगॉंका जीवन हमें दयापात्र किन्ठु रददस्यशन्य लगता है । अओसपके अझस बारहर्सीगेकी तरह हम सिरपरके सींगेके.गरूरसें छपने पतलें पैरॉका तिरस्कार करने लगे हैं, या तिरस्कार करने जितना भो ध्यान हम 'झनकी तरफ नहीं देते । कर्म श्रौर पुनर्जेन्म- के 'सिद्धान्तका ाश्रय लेकर हम अपसे 'मलाथद्रोहको टेक लेते हैं, झना्थोंकी सेवा तो दूर रही, अनका स्मरण तक हम नहीं कंरते । प्रेस कवि हुडके 5078 ४ घाट 5६ ( कमीजका गीत ) की चरावरी कर सके औसा मौलिक कान्य क्या किसीने लिखा है ? असपके अस बारहसींगेकी जो हालत श्रन्तमें हुआ वही हालत हमारी हमेशा होती 'आंयी है। और अब तो विनाश- की घटाने सिरपर मंडरा रही हैं। हमारा लोकप्रिय साहित्य हमारी सामाजिक स्थितिंका सचन करता है। जो कुछ टिलमसें होगा वही होठॉपर आयेगा न ? रारीवॉकी मुश्किलें कौन-कौनसी हैं, ्यूनका दर्द-दुःख क्या है, झनके सवाल कितने. पेंचीदा और विशाल हैं अ्रिन सब वातों पर जिस्मेदारीके साथ विचार करके शसली सवाल हल कर सके अैसी योजना जब होगी तभी गरीवॉके दिलोंमें कुछ श्ञाशा: पैदा होगी न ? जिसकी हम झेरन चुंराते हैं झुसीको अगर दानमें: छोटीसी सच . देते हों .वो उसे लेते समय 'लेनेबालेके दिलमें कैसी भावना झत्पन्न होगी ? हमारा




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :