राग रत्नाकर | Rag Ratnakar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Rag Ratnakar by अज्ञात - Unknown

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
अजुकमणिका, पु. |. पद- पूछ, धुविया फिर मरजायगा.. .... ९५६ | नटकों न धाम «न ९१५ ध्रुबकी धरनि जेसी *.... ३८९ | नहरवा हमको न भावे ... .... ९४४ धूर भरे अंग स़ेठत ««. २८ | न जाने कौनसी न ५५४ भूर भरे अति « ४१५ | नरू मरे नर काम न आवे...... ९५७ धूल जेसो घन जाके ..... श८४ | नजर संभारे ठाछ ..... ५५४ धघोरेहि मोइन धौरोहि .... ४८७ | नहीं ऐसो जन्प वारंवार . .... ५८४ ध्यावत मद्देदा हू .... ४१४ | नहीं हम वेदके ८... १९८६ नरगिप्ती चश्म शुलवदन «... ५९३ 1. न. नहिं आये भवनवाँ ईू० ३ नव बधायो नंद्घर ... ..... ११ | नाचे छठी छवीला (१०, करवूति निजसुतकी . «.... ४४ | नारीहू न जाने “न पद नटनागर चित चोर «न. १८४ | नाईिन रहो मनमें दौर. «« ९२० नयनोंकी मारी ««« . हर | नाथ अनाथनकी सुध नमो कृष्ण हंदाटवी ७८ | नामकी पैन राखो «न नयनोरि चित चोर ..... १७५ | नाथ मोहिं अबकी वेर... .... ४५ निं विसरत सखी «« १७६ | नाय तुम दीनन २१५ नयना मान अपमान «« १७८ | ना जानू मेरा राम « र५९, नयननकी कोरे ««« १८५ | नामकों प्रताप कछिदाप «३८३ नमो नमो हंदावन चंद. «... ९३० | नामद्दीके बल संइसानन .. .... कक नव कवर चक्त «+««« ३६९ | नाचि नाचि कदि कदि ... ««.. ३९९ नई चद्दार आई «««« २७४ | नामकों अधार ८८०८ है १० नईिं छोहरे वावा «- २८२ | नाथ अनाथनकी «८ 'इंडेरे' नवरु रघुनाय नव ३१६ | नागानन नाजर सो बन पे नर राम भजन कर ३९९ | नारिके विकार सब सार. .... ४७८ नयन छरूयों जब «« 8१६ | नादके छोभ व. 9८० नमो चेद विद्याके ...« | नाहिं फठे जगमाहिं ४८१ नमस्ते से आधार -.. ७५ | नाम जपन क्यों छोड़ नन्न् ५५ नभमें सुरकोक रचे .... ४८० | नारायण निशदिन न हर नव निकुंज -« ५०५५ | नारायण प्रभु शरण बस. जी नयननकी कोरसो न १०८ ' नारायण मु नासु धन, दे




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now