मणिभद्र | Manibhadra

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Manibhadra  by मोतीलाल भड़कतिया - Motilal Bhadaktiya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

मोतीलाल भड़कतिया - Motilal Bhadaktiya के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
बलरखेड़ा तीर्थाशिफति श्री आदीश्यर भगवान का लव-निर्मिति गर्भगुह में एालेडा माह्लौत्सान १2 9.4क.99)रेनर न ही नि जियाच्रसइण इरल्पट पिला दथ पप न मनन असाड नसपयाय ही नस देने उनप्ी-नातसरून & 2...क हर कि तापु प री हीगट्ट दाहू कक«मर कमसे सुई हिनाना7 मु डे रे ? हद पे शी प्रवेशोपरान्त विराजित 1 भगवान न ई श्री आदीनाथ स्वामी श्र ह थी कह, | ही कि आचार्य भगवन्त, मुनिवर्य श्री मणिप्रभ विजय जी, महत्त्तरा साध्वीजी आदि साध्वीवृन्द एवं प्रवेश कराने के लाभार्थी श्री मीठालालजी कुहाड | जीर्णोद्धारान्तर्गत जिनालयका 29.4.99 का चित्र ।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!